अर्धनग्न तस्वीरें शाही जोड़े को मिलेंगी, फ्रांस में छापने पर रोक

केट और विलियम
Image caption शाही जोड़ा सोलोमन आइलैंड्स की सैर पर

फ्रांस की एक अदालत ने भविष्य में प्रिंस विलियम की पत्नी कैथरीन की अर्धनग्न तस्वीरों के छापे जाने पर रोक लगा दी है.

तस्वीरें डचेस कैथरीन की जानकारी के बिना उस समय ली गई थीं जब वो फ्रांस में छुट्टियां मना रही थीं.

ये आदेश तब आया है जब प्रिंस विलियम और कैथरीन ने फ्रांस की क्लोजर पत्रिका के खिलाफ ये तस्वीरें छापने और फिर इन्हें बेचने पर अदालती कार्रवाई शुरु की थी.

प्रकाशकों को ये तस्वीरें 24 घंटे के भीतर प्रिंस विलयम और कैथरीन को सौंप देने का आदेश दिया गया है.

शाही जोड़े ने अदालत से कहा था कि तस्वीरों के छपने से उनकी निजता के अधिकार का हनन हुआ है. शाही खानदान के वकील इस बारे में विचार कर रहे हैं कि प्रकाशक के खिलाफ आपराधिक कार्रवाई भी की जाए या नहीं.

'क्लोजर संस्करण को वापस ले'

Image caption शाही जोड़े को देखने के लिए लोग उमड़ रहे हैं

कैम्ब्रिज के ड्यूक विलियम और डचेस कैथरीन लगातार मांग कर रहे हैं कि अर्धनग्न तस्वीरों के मामले में फ्रांस की मैगजीन क्लोजर उस संस्करण को वापस ले जिसमें आपत्तिजनक तस्वीरें छपी थीं.

केट की ये तस्वीरें फ्रांसीसी पत्रिका क्लोजर, आयरिश डेली स्टार और इटली गॉसिप पत्रिका 'ची' में प्रकाशित हुई हैं.

आयरिश डेली स्टार के सह-मालिक ने तस्वीरों को छापने की आलोचना की थी.

विलियम और कैट का चुम्बन

बीबीसी पेरिस संवाददाता क्रिस्चियन फ्रेजर के मुताबिक फ्रांस में कई वकीलों का कहना है कि फ्रांस के नियमों के मुताबिक इन तस्वीरों को छापने से सीधे-सीधे निजता के हनन का मामला बनता है.

क्लोजर पत्रिका ने इन तस्वीरों को प्रकाशित करने के अपने फैसले का ये कहते हुए बचाव किया था कि जिन तस्वीरों को प्रकाशन के लिए चुना गया, वो किसी तरह से खराब नहीं हैं.

उधर इटली की पत्रिका 'ची' ने एक विशेष संस्करण में 20 पन्नों से ज्यादा पर तस्वीरें छापी हैं. इन तस्वीरों में डचेस टॉपलेस नजर आ रही हैं और शीर्षक है- 'रानी नग्न हैं'.

बच्चों के बीच राजकुमारी

'ची' मैगजीन के संपादक अलफांसजो सिग्नोरिनी ने तस्वीरें छापने का बचाव करते हुए कहा है कि ऐसा करना आम बात है.

उन्होंने कहा, "भविष्य में ब्रिटेन की महारानी बनने वाली केट मिडलटन उनके उम्र की दूसरी लड़कियों से अलग कैसे हैं?"

संबंधित समाचार