पर्वतारोहियों को बहा ले गई बर्फ की बाढ़

 रविवार, 23 सितंबर, 2012 को 22:40 IST तक के समाचार

नेपाल में क्लिक करें हिमालय की एक चोटी पर हिमस्खलन की वजह से कम से कम नौ पर्वतारोहियों के मारे जाने की आशंका है जबकि छह अन्य लापता हो गए हैं.

अधिकारियों ने दो शव मिलने की पुष्टि की है, वहीं सात अन्य को माउंट मनास्लू के ढलान पर देखा गया है.

पुलिस का कहना है कि ये हिमस्खलन शनिवार को एक बेस-कैम्प के नजदीक हुआ.

जो दो शव मिले हैं, उनमें से एक जर्मन नागरिक का और दूसरा नेपाली गाइड का बताया जाता है.

पुलिस अधिकारी बसंत बहादुर कुवर के हवाले से समाचार एजेंसी एपी ने खबर दी है कि दस लोग इस हिमस्खलन में किसी तरह बच गए हैं, लेकिन कई अन्य घायल भी हुए हैं.

उन्होंने बताया कि बचाव के लिए आए हेलीकॉप्टरों की मदद से उन्हें अस्पतालों में भर्ती कराया गया है.

अधिकारी इस बात का पता लगाने का प्रयास कर रहे हैं कि पर्वतारोही दल में कुल कितने लोग शामिल थे.

बर्फ की बाढ़

"मनास्लू चोटी पर कैम्प नंबर तीन हिमस्खलन की चपेट में आ गया और बर्फ की जैसे बाढ़ सी आ गई"

लक्ष्मी ढकाल, आपदा प्रबंधन अधिकारी

पुलिस अधिकारी बसंत बहादुर कुवर ने बताया कि मौसम खराब होने की वजह से लापता हुए लोगों की तलाश रविवार को लगभग नामुमकिन हो गई है.

हिमस्खलन के समय ये पर्वतारोही 22,960 फुट की ऊंचाई पर थे और आगे बढ़ने की तैयारी कर रहे थे.

नेपाल के गृह मंत्रालय के आपदा प्रबंधन विभाग के प्रमुख लक्ष्मी ढकाल का कहना है, ''मनास्लू चोटी पर कैम्प नंबर तीन हिमस्खलन की चपेट में आ गया और बर्फ की जैसे बाढ़ सी आ गई.''

नेपाल स्थित हिमालय की चोटियों पर चढ़ने के इरादे से यहां हर साल बड़ी संख्या में विदेशी पर्वतारोही आते हैं.

हिमालय पर्वत श्रृंखला में दुनिया की 14 में से आठ सबसे ऊंची चोटियां हैं.

मनास्लू, दुनिया की आठवीं सबसे ऊंची चोटी है. इसकी चढ़ाई खतरनाक मानी जाती है क्योंकि हाल के वर्षों में इस पर फतह की कोशिशों में कई लोग अपनी जान गवां चुके हैं.

इससे जुड़ी और सामग्रियाँ

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.