BBCHindi.com
अँग्रेज़ी- दक्षिण एशिया
उर्दू
बंगाली
नेपाली
तमिल
 
शुक्रवार, 09 दिसंबर, 2005 को 10:32 GMT तक के समाचार
 
मित्र को भेजें कहानी छापें
विवादित गैस पाइप लाइन पर काम शुरू
 
गैस पाइपलाइन
बाल्टिक गैस पाइप लाइन पाँच अरब डॉलर की परियोजना है
रूस और पश्चिमी यूरोप को बाल्टिक सागर से होकर जोड़ने वाली एक विवादित गैस पाइप लाइन पर शुक्रवार से काम शुरू हो गया है.

1200 किलोमीटर लंबी इस गैस पाइप लाइन के पूरा होने पर जर्मनी और अन्य पश्चिमी यूरोपीय देशों को रुस से गैस मिलेगी. संभावना है कि वर्ष 2010 तक ये परियोजना पूरी जाएगी.

बीबीसी संवाददाताओं का कहना है कि रूस को ऊर्जा के क्षेत्र में सुपर पॉवर बनाने के लिए यह राष्ट्रपति व्लादीमिर पुतिन की रणनीति का अहम हिस्सा है.

लेकिन इस पाइपलाइन को लेकर विवाद भी है. पोलैंड और यूक्रेन को आशंका है कि इससे उनकी ऊर्जा ज़रूरतों पर विपरीत असर पड़ सकता है.

विवाद

दरअसल इस समय इन दोनों देशों को रूस की ओर से सस्ते दर पर गैस मिलता हैं क्योंकि पश्चिमी देशों को रूस से मिलने वाली गैस इन देशों से होकर ही मिलती है.

राष्ट्रपति पुतिन और चांसलर श्रोएडर के बीच हुआ था समझौता

लेकिन इस परियोजना के पूरा होने पर ये दोनों देश इससे कट जाएँगे.

पाँच अरब डॉलर की इस परियोजना पर इस साल सितंबर में जर्मन चांसलर गेरहार्ड श्रोएडर के सत्ता गँवाने के ठीक पहले सहमति हुई थी.

पश्चिमी यूरोप की गैस ज़रूरतों का एक चौथाई हिस्सा रूस आपूर्ति करता है. अपने सीमित संसाधनों के कारण इस मामले में जर्मनी की निर्भरता तो और भी ज़्यादा है.

 
 
इससे जुड़ी ख़बरें
पाइप लाइन पर भारत-ईरान बैठक
03 अगस्त, 2005 | भारत और पड़ोस
गैस लाइन के अहम पहलुओं पर चर्चा
13 जुलाई, 2005 | भारत और पड़ोस
गैस पाइपलाइन पर भारत-पाक वार्ता
12 जुलाई, 2005 | भारत और पड़ोस
ईरान की संयम बरतने की अपील
21 मई, 2002 | पहला पन्ना
इंटरनेट लिंक्स
बीबीसी बाहरी वेबसाइट की विषय सामग्री के लिए ज़िम्मेदार नहीं है.
सुर्ख़ियो में
 
 
मित्र को भेजें कहानी छापें
 
  मौसम |हम कौन हैं | हमारा पता | गोपनीयता | मदद चाहिए
 
BBC Copyright Logo ^^ वापस ऊपर चलें
 
  पहला पन्ना | भारत और पड़ोस | खेल की दुनिया | मनोरंजन एक्सप्रेस | आपकी राय | कुछ और जानिए
 
  BBC News >> | BBC Sport >> | BBC Weather >> | BBC World Service >> | BBC Languages >>