BBCHindi.com
अँग्रेज़ी- दक्षिण एशिया
उर्दू
बंगाली
नेपाली
तमिल
 
सोमवार, 19 जून, 2006 को 17:35 GMT तक के समाचार
 
मित्र को भेजें कहानी छापें
शुरुआत एक भूमिका से...
 

 
 
बीबीसी हिंदी
बीबीसी हिंदी परिवार के कुछ नए-पुराने सदस्य
बीबीसी हिंदी सेवा के लंदन दफ़्तर में हम जितने लोग भी काम करते हैं उनमें एक बात समान है.

हम सब की जन्मभूमि भारत है. चाहे वह दिल्ली हो, बिहार हो या फिर पंजाब, राजस्थान या उत्तर प्रदेश.

लेकिन हम सब की कर्मभूमि लंदन है.

हममें से कुछ यहाँ दो साल से हैं तो कुछ बीस साल से. हमारे अनुभव अलग हैं और हमारी खट्टी-मीठी यादें जुदा.

इस डायरी के माध्यम से हम आपको दिखाना चाहते हैं वह लंदन जो हम देख पा रहे हैं.

इस डायरी के ज़रिए हर सप्ताह अलग-अलग सहयोगी आपसे संबोधित होंगे.

कुछ यही अंदाज़ होगा दिल्ली डायरी का जिसकी पहली प्रति आप तक पहुँच चुकी है.

हम आपकी प्रतिक्रियाएँ चाहेंगे और साथ ही आपके सुझाव भी.

तो लिखिएगा ज़रूर...हमारा पता hindi.letters@bbc.co.uk

* * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * *

भयावह इमारतें...

लंदन में एक अजीब तरह की प्रतियोगिता जारी है.

लंदन सेंटरपॉएंट

सरकार को इमारतों के निर्माण के बारे में सलाह देने वाली एक संस्था ने लोगों से कहा है कि वे उन इमारतों की तस्वीरें भेजें जो उनकी नज़र में स्थापत्य का सबसे ख़राब नमूना हैं.

शायद संस्था भविष्य के लिए उनसे कुछ सबक़ सीखना चाहती है.

वैसे संस्था का कहना है कि लोग इमारतों को जब देखते हैं तो अपने आसपास के माहौल को भूल कर उन्हीं के बारे में सोचने लगते हैं.

इन इमारतों का अध्ययन करके संस्था यह नतीजा भी निकालना चाहती है कि ख़राब डिज़ायन पर कितनी राशि ख़र्च की जाती है.

अब तक जो प्रविष्टियाँ आई हैं उनमें लंदन का सेटंरपॉएंट टावर शामिल है.

क्या आपको अपने शहर की कुछ इमारतें याद आ रही हैं..?

* * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * *

लंदन में अंग्रेज़ फॉरनर...

लंदन में एक इलाक़ा है साउथॉल. वहाँ जाते ही करोल बाग़. चाँदनी चौक या लाजपत नगर की याद ताज़ा हो जाती है.

साउथॉल

हर माल मिलेगा दो रुपये की तर्ज़ पर यहाँ भी फ़ुटपाथ पर दुकानें लगती हैं. यह और बात है कि यहाँ माल दो रुपये में नहीं दो पाउंड में मिलेगा.

सड़क पर निकल जाइए, देखने को मिलेंगे दुकानों की खिड़कियों में साड़ी और शलवार-कमीज़ में सुसज्जित मैनेक्वींस, कैसेट की दुकानों में ज़ोर-ज़ोर से बजते हिंदी और पंजाबी गाने और चूड़ियों और बिंदियों के स्टॉल.

बहरहाल, यहाँ पंजाबी समुदाय की भरमार है. और इसी से जुड़ा एक क़िस्सा मशहूर है.

कहते हैं कि जब यहाँ एशियाइयों की तादाद बढ़ी तो यहाँ रहने वाले कई अंग्रेज़ अपने मकान बेच कर कहीं और जा बसे.

एक दिन एक डाकिया किसी का पता पूछता फिर रहा था.

एक पंजाबी भाई ने आगे बढ़ कर पूछा और सुनने के बाद कुछ सोच में पड़ गए.

फिर बोले, "जॉन स्मिथ..? इथ्थे तो कोई फ़ॉरनर नहीं रहंदा है".

 
 
इंडिया गेटदिल्ली डायरी
मंत्री बनना भर पर्याप्त नहीं होता.यक़ीन न हो तो राज्यमंत्रियों से पूछ लीजिए.
 
 
पुरस्कारपत्रकारिता पुरस्कार
बीबीसी हिंदी डॉट कॉम और वेबदुनिया के संयुक्त प्रयास को सम्मानित किया गया है.
 
 
बीबीसी हिन्दीपत्रकारिता कार्यशालाएँ
बीबीसी हिंदी डॉट कॉम और वेबदुनिया इंटरनेट पत्रकारिता कार्यशालाएँ कर रहे हैं.
 
 
बीबीसी रेडियोआप और बीबीसी हिंदी
बीबीसी हिंदी के बारे में आप क्या सोचते हैं और क्या चाहते हैं उससे?
 
 
इससे जुड़ी ख़बरें
खेलों में भारत की दुर्दशा क्यों
26 फ़रवरी, 2004 | भारत और पड़ोस
सुर्ख़ियो में
 
 
मित्र को भेजें कहानी छापें
 
  मौसम |हम कौन हैं | हमारा पता | गोपनीयता | मदद चाहिए
 
BBC Copyright Logo ^^ वापस ऊपर चलें
 
  पहला पन्ना | भारत और पड़ोस | खेल की दुनिया | मनोरंजन एक्सप्रेस | आपकी राय | कुछ और जानिए
 
  BBC News >> | BBC Sport >> | BBC Weather >> | BBC World Service >> | BBC Languages >>