BBCHindi.com
अँग्रेज़ी- दक्षिण एशिया
उर्दू
बंगाली
नेपाली
तमिल
 
शुक्रवार, 28 जुलाई, 2006 को 14:50 GMT तक के समाचार
 
मित्र को भेजें कहानी छापें
इतिहास बदलने वाला स्वेज़ नहर संकट
 
जमाल अब्दुल नासिर
नासिर ने तीसरी दुनिया के देशों को नई ताक़त दी थी और गुटनिरपेक्ष आंदोलन आगे बढ़ा
1956 की स्वेज़ नहर घटना ने दुनिया के आधुनिक इतिहास और राजनीति को एक नई दिशा दी थी.

मिस्र के राष्ट्रपति जमाल अब्दुल नासिर ने स्वेज़ नहर का राष्ट्रीयकरण करके ब्रिटेन और फ्रांस के साम्राज्यवाद को चुनौती दी थी और यहीं से विश्व की दो महाशक्तियों के प्रभाव से अलग एक तीसरी दुनिया का रास्ता साफ़ हुआ जिसे गुटनिरपेक्ष आंदोलन नाम दिया गया.

स्वेज़ नहर संकट की पचासवीं वर्षगाँठ के मौक़े पर पर बीबीसी हिंदी की
विशेष प्रस्तुति.

 
 
इससे जुड़ी ख़बरें
इसराइल-लेबनान संघर्ष
19 जुलाई, 2006 | पहला पन्ना
चेतावनियाँ नज़रअंदाज़ की गईं
26 जुलाई, 2006 | पहला पन्ना
सुर्ख़ियो में
 
 
मित्र को भेजें कहानी छापें
 
  मौसम |हम कौन हैं | हमारा पता | गोपनीयता | मदद चाहिए
 
BBC Copyright Logo ^^ वापस ऊपर चलें
 
  पहला पन्ना | भारत और पड़ोस | खेल की दुनिया | मनोरंजन एक्सप्रेस | आपकी राय | कुछ और जानिए
 
  BBC News >> | BBC Sport >> | BBC Weather >> | BBC World Service >> | BBC Languages >>