BBCHindi.com
अँग्रेज़ी- दक्षिण एशिया
उर्दू
बंगाली
नेपाली
तमिल
 
 
मित्र को भेजें कहानी छापें
पसीना छूटता है मगर क्यों...
 

 
 
जॉर्ज बुश
पसीना आने की कई वजहें हो सकती हैं
हमें पसीना क्यों आता है. जानना चाहते हैं सुरबेरा, झारखंड से सोमा सरदार.

हमें पसीना इसलिए आता है जिससे हमारे शरीर का तापमान सामान्य बना रहे. ये तो आप जानते ही हैं कि हमारा तापमान 98.6 डिग्री फ़ैरनहाइट के आस-पास रहना चाहिए. इसे बनाए रखने के लिए हमारे शरीर में कोई 25 लाख पसीने की ग्रंथियाँ हैं जो एयर कंडीशनिंग का काम करती हैं. जब गर्मी बहुत बढ़ जाती है, चाहे वह बाहरी कारणों से हो या बुख़ार से, तो शरीर को ठंडा करने के लिए इन ग्रंथियों से पसीने की बूंदें निकलती हैं. जब पसीना हवा में सूखता है तो ठंडक पैदा होती है और तापमान कम हो जाता है.

पसीने से दुर्गंध क्यों आती है. यह सवाल लिख भेजा है नई दिल्ली से पूर्णेंदू शेखर ने.

पसीने में अपनी कोई गंध नहीं होती. दरसल हमारा शरीर दो प्रकार का पसीना पैदा करता है, eccrine और apocrine. इनमें से ऐपोक्राइन जब हमारी त्वचा के बैक्टीरिया के संपर्क में आता है और बैक्टीरिया उसे पचाता है तो उससे एक दुर्गंध पैदा होती है. इससे बचने के लिए बैक्टीरिया विरोधी साबुन का इस्तेमाल करें, नियमित रूप से नहाएं, साफ़ कपड़े पहनें और हो सके तो सिन्थैटिक कपड़े न पहनें.

क्या किसी समय भारत, अफ़्रीका उपमहाद्वीप में स्थित था. वह कैसे अलग हुआ. ये सवाल किया है बालाघाट मध्यप्रदेश से मितेश शुक्ला ने.

कोई साढ़े 22 करोड़ साल पहले हमारी पृथ्वी पर एक विशाल भूखंड था जिसे भूविज्ञान की भाषा में पैंजिया कहा जाता है. लेकिन 20 करोड़ साल पहले वह टूट कर दो हिस्सों में बंट गया. यह विभाजन इसलिए हुआ क्योंकि हमारी पृथ्वी की सतह के नीचे वाली परत जिसे अपर मैंटल कहा जाता है, उसमें मौजूद द्रव्य पदार्थ ऊपर की ओर धक्का देता है जिससे प्लेटें खिसकती हैं. इस विभाजन से यह भूखंड दो महाद्वीपों में विभाजित हो गया. उत्तरी महाद्वीप को लॉरेशिया और दक्षिणी महाद्वीप को गोंडवाना लैंड कहा जाता है. लॉरेशिया में शामिल थे उत्तरी अमरीका, ग्रीनलैंड, यूरोप और एशिया जबकि गोंडवाना लैंड में दक्षिणी अमरीका, अफ़्रीका, मैडागास्कर, भारत, श्रीलंका ऑस्ट्रेलिया, न्यूज़ीलैंड और एंटार्कटिका शामिल थे. पृथ्वी की परतें खिसकने का सिलसिला चलता रहा और दुनिया का नक्शा बदलता गया. तो यह कहना ठीक होगा कि कभी भारत अफ्रीका के साथ जुड़ा था लेकिन जब भारतीय प्लेट अलग हुई तो उत्तर की ओर बढ़ी और आज भी खिसक रही है.

ग्रेमी एवॉर्ड किस लिए प्रदान किया जाता है. पूछा है ग्राम रहमान गंज से नारायण कुमार सिंह.

सितारवादक पंडित रविशंकर
रविशंकर को भी ग्रेमी अवार्ड मिल चुका है

ग्रैमी अवॉर्ड्स संगीत के रिकॉर्डिंग उद्योग में अभूतपूर्व उपलब्धियों के लिए दिए जाते हैं. इन्हें हर साल नेशनल ऐकेडमी ऑफ़ रिकार्डिंग आर्ट्स ऐंड साइंसेज़ द्वारा दिया जाता है. ये पुरस्कार कुल 108 श्रेणियों में दिए जाते हैं. इसमें विजेता को मिलती है एक ट्रॉफ़ी, जिसपर बना होता है - सोने का पानी चढ़ा पुरानी शैली का ग्रामोफ़ोन. सन् 1973 में कंसर्ट फ़ॉर बांगलादेश नामक रिकार्ड के लिए अन्य कलाकारों के साथ भारत के सुप्रसिद्ध सितारवादक पंडित रविशंकर को भी ग्रैमी एवॉर्ड मिला था और फिर 1994 में विश्व संगीत की सर्वोत्तम ऐल्बम के लिए उनके शिष्य विश्वमोहन भट्ट को मिला.

दुनिया की सही-सही आबादी कितनी है. यह जानना चाहते हैं शाहजहांपुर, उत्तर प्रदेश से यूसुफ़ ख़ान.

दुनिया की आबादी साढ़े छ अरब से ज़्यादा है और प्रति सैकेंड बढ़ रही है इसलिए सही-सही बता पाना संभव नहीं है. हालांकि जन्म दर में कमी आई है लेकिन विशेषज्ञों का अनुमान है कि अगले 50 सालों में जनसंख्या बढ़कर 9 अरब हो जाएगी. अफ़्रीका, एशिया और लातीनी अमरीका के विकासशील देशों में विकसित देशों की तुलना में आबादी अधिक बढ़ेगी.

दुनिया में ईसाइयों, मुसलमानों, हिंदुओं और यहूदियों की कुल जनसंख्या कितनी है, उनकी आनुपातिक स्थिति क्या है. यह सवाल किया है टिठई पीपरगांव, हरदोई उत्तर प्रदेश से सुरेश अवस्थी ने.

दुनिया में ईसाइयों की अनुमानित संख्या दो अरब 10 करोड़ है जबकि मुसलमानों की एक अरब 20 करोड़. हिंदुओं की आबादी एक अरब पाँच करोड़ और यहूदियों की एक करोड़ 40 लाख है. यानी दुनिया की कुल आबादी का 33 प्रतिशत ईसाई हैं, 21 प्रतिशत मुसलमान, 14 प्रतिशत हिंदू और दशमलव 22 प्रतिशत यहूदी हैं. बाक़ी बचे 32 प्रतिशत लोगों में आते हैं अन्य धर्मों को मानने वाले लोग और वो भी जो किसी धर्म को नहीं मानते. और ऐसे लोगों की संख्या 16 प्रतिशत के आसपास है.

संदीप सिंह ने लुधियाना पंजाब से पूछा कि ब्रिटेन में सबसे बड़ा गुरद्वारा कहाँ है.

लंदन के साउथहॉल में गुरूद्वारा
यह ब्रिटेन का सबसे बड़ा गुरूद्वारा है

ब्रिटेन का सबसे बड़ा गुरुद्वारा लंदन के उपनगर साउथॉल में है जिसे श्री गुरु सिंह सभा कहा जाता है. यह मार्च 2003 में बनकर तैयार हुआ था. इसमें कुल ए करोड़ 80 लाख पाउंड की लागत आई. यह धन संगत ने ही जुटाया था. इसके मुख्य सभागार में कोई तीन हज़ार लोग बैठ सकते हैं उसके पीछे बने छोटे हॉल में कोई डेढ़ हज़ार और ऊपरी गैलरी में पाँच-सात सौ लोग बैठ सकते हैं. इसकी विशेषता यह है कि यह आधुनिक और पारंपरिक वास्तुशिल्प का एक श्रेष्ठ उदाहरण है. पालकी साहब, जहाँ गुरु ग्रंथ साहब प्रतिष्ठित हैं, उसपर सोने और चाँदी की चादर चढ़ी है, गुरुद्वारे के गुंबद पर भी सोने की चादर चढ़ी है. पालकी साहब के पीछे स्टेन ग्लास की खिड़कियाँ लगी हैं, वैसी ही जैसी गिरजाघरों में देखी जा सकती हैं. लंगर में हर हफ़्ते कोई 20 हज़ार लोगों के खाने की व्यवस्था रहती है.

हमास का पूरा नाम क्या है और इस संगठन के उद्देश्य बताएं. जानना चाहा है अलीनगर, मुगलसराय, उत्तर प्रदेश से लाल बहादुर चौहान ने.

हमास शब्द, हरकत-अल-मुक़ावामा-अल-अरबिया से बना है. इसका गठन 1987 में मिस्र के इस्लामिक मुस्लिम ब्रदरहुड आंदोलन की एक शाखा के रूप में हुआ था. हमास इसराइल के अस्तित्व के ख़िलाफ़ है और 1993 में हुए ऑस्लो शांति समझौते को अल्लाह की मर्ज़ी के ख़िलाफ़ मानता है और उसके स्थान पर एक इस्लामिक गणतंत्र की स्थापना करना चाहता है. इसकी सैन्य शाखा इज़्ज़दीन-अल-क़सम ब्रिगेड के नाम से जानी जाती है और इसने पिछले कई सालों में इसराइल पर अनेक हमले किए हैं. लेकिन हमास ने आम फ़लस्तीनियों की मदद के लिए अस्पतालों और स्कूलों का निर्माण जैसे कई काम किए हैं. जनवरी 2006 में फ़लस्तीनी प्राधिकरण की विधान परिषद के चुनाव हुए थे जिसकी कुल 132 सीटों में से हमास को 74 सीटें मिलीं और उसने सरकार बनाई थी.

इलाहबाद उत्तर प्रदेश से मंगल कुमार यादव यह जानना चाहते हैं कि वीडियो कान्फ्रेंसिंग क्या होती है और यह हॉटलाइन से कैसे भिन्न है.

हॉटलाइन टेलीफ़ोन की वह सेवा है जिसमें एक व्यक्ति दूसरे व्यक्ति से जिस लाइन पर बात करता है वह तुरंत मिलती है और सुरक्षित होती है. उदाहरण के लिए वर्ष 2004 में भारत और पाकिस्तान ने सेना के वरिष्ठ अधिकारियों के बीच एक हॉटलाइन स्थापित करना तय किया जिससे परमाणु ख़तरों से एक दूसरे को आगाह किया जा सके. जहाँ तक वीडियो कान्फ्रेंसिंग का सवाल है अगर इस टेलिफ़ोन लाइन के साथ कैमरा लगा दिया जाता है तो आप एक दूसरे की आवाज़ के साथ-साथ टेलीविज़न स्क्रीन पर एक दूसरे का चेहरा भी देख पाएंगे. जैसे सामने बैठकर बात कर रहे हैं.

 
 
टिक-टिक घड़ीघड़ी कब और कैसे बनी
घड़ी के आज अनेक रूप प्रचलित हैं लेकिन यह कब, किसने और कहाँ बनाई...
 
 
रामायणरामायण, रामायण...
वाल्मीकि और तुलसीदास की रामायण में क्या कोई अंतर है...
 
 
आइफ़िल टॉवरआईफ़िल... की ऊँचाई
आइफ़िल टॉवर कब, किसने और क्यों बनवाया. इसकी ऊँचाई कितनी है?
 
 
याहूयाहू का पूरा नाम?
इंटरनेट की दुनिया में याहू एक लोकप्रिय नाम है. लेकिन इसका पूरा नाम क्या है...
 
 
ब्रिटनी स्पीयर्स गाते हुए पसीने में सराबोरपसीना क्यों छूटता है
पसीना कई कारणों से छूट सकता है मगर ऐसा होता क्यों है...
 
 
महात्मा गाँधीगाँधी के भाई-बहन
क्या आप जानना चाहेंगे कि महात्मा गाँधी के कितने भाई-बहन थे...
 
 
कबड्डीकबड्डी, कबड्डी, कबड्डी
कबड्डी का खेल कब और कहाँ शुरू हुआ और इसके क्या नियम हैं...
 
 
इससे जुड़ी ख़बरें
घड़ी का आविष्कार कब, कैसे और कहाँ?
15 फ़रवरी, 2007 | पहला पन्ना
वाल्मीकि रामायण, तुलसी रामायण!
10 फ़रवरी, 2007 | पहला पन्ना
महात्मा गाँधी के कितने भाई-बहन?
20 जनवरी, 2007 | पहला पन्ना
कबड्डी, कबड्डी, कबड्डी!!!
16 जनवरी, 2007 | पहला पन्ना
पलकों का एक साथ झपकना
13 जनवरी, 2007 | पहला पन्ना
सुर्ख़ियो में
 
 
मित्र को भेजें कहानी छापें
 
  मौसम |हम कौन हैं | हमारा पता | गोपनीयता | मदद चाहिए
 
BBC Copyright Logo ^^ वापस ऊपर चलें
 
  पहला पन्ना | भारत और पड़ोस | खेल की दुनिया | मनोरंजन एक्सप्रेस | आपकी राय | कुछ और जानिए
 
  BBC News >> | BBC Sport >> | BBC Weather >> | BBC World Service >> | BBC Languages >>