BBCHindi.com
अँग्रेज़ी- दक्षिण एशिया
उर्दू
बंगाली
नेपाली
तमिल
 
मंगलवार, 15 मई, 2007 को 15:08 GMT तक के समाचार
 
मित्र को भेजें कहानी छापें
स्क्रीन किरणें कितनी ख़तरनाक?
 

 
 
कंप्यूटर स्कीन किरणें बेहद ख़तरनाक?
लगातार कई घंटों तक कंप्यूटर का इस्तेमाल करने से आँखों को बहुत नुक़सान हो सकता है
गांव बहुरवा, पूर्वी चम्पारण बिहार के संतोष कुमार साह ने यही सवाल किया है कि कंप्यूटर स्क्रीन से कौन सी किरणें निकलती हैं, ये हमारी आंखो को किस सीमा तक नुक़सान पहुंचाती हैं और इनसे बचने का क्या उपाय है.

कंप्यूटर और टेलीविज़न दोनों एक ही तकनीक से बने हैं. इन्हें सी आर टी या कैथोड रे ट्यूब कहते हैं. इन्हीं से निकलने वाली इलैक्ट्रॉन किरणों से कंप्यूटर या टेलीविज़न के पर्दे पर छवियां या चित्र बनाते हैं. यह माना जाता है कि अगर ये लीक हो जाएं तो रेडिएशन का रूप ले लेती हैं और हमारी जीवित कोशिकाओं के लिए हानिकारक हैं. इसे वैज्ञानिक भाषा में पल्स इलैक्ट्रो मैग्नैटिक रेडिएशन कहते हैं. क्योंकि हमारी आंखें कंप्यूटर के पर्दे को लगातार देखती रहती हैं इसलिए सबसे अधिक नुक़सान इन्हीं को होता है. इससे बचने के लिए ऐंटी ग्लेयर स्क्रीन इस्तेमाल करें जो कंप्यूटर के पर्दे के ऊपर लगाई जाती है. यह स्क्रीन विशेष पदार्थ की बनी होती है जो रेडिएशन को जज़्ब कर लेती है. इसके अलावा आप ज़ीरो पावर के चश्मे का भी इस्तेमाल कर सकते हैं.

भूटान के प्रथम प्रधानमंत्री का नाम क्या था. भूटान की जनसंख्या कितनी है. झूमरी तलैया से विजय शर्मा.

भूटान के प्रथम प्रधानमंत्री का नाम था जिग्मे पाल्देन दोरजी जो 1952 से 1964 तक प्रधानमंत्री रहे. और भूटान की अनुमानित आबादी है 22,32,291 यानी बाईस लाख, बत्तीस हज़ार दो सौ इक्यानवे.

विश्व व्यापार संगठन के कुल सदस्य देश कितने हैं और इसका मुख्यालय कहां है. यह पूछा है सेड़िया सांचोर राजस्थान के तुलसाराम पटीर.

विश्व व्यापार संगठन के सदस्य देशों की संख्या है 139. इसका मुख्यालय स्विट्ज़रलैंड के जिनीवा शहर में और महानिदेशक हैं पास्कल लैमी. विश्व व्यापार संगठन की स्थापना दुनिया की व्यापार व्यवस्था के नियम तय करने और विवादों को सुलझाने के उद्देश्य से की गई थी.

शामागुड़ि, ज़िला कार्बिआल, असम से बिनोद नाथ ने पोस्ट कार्ड पर अपना सवाल लिखकर भेजा है. वो जानना चाहते हैं कि ऐंबुलैंस की गाड़ी पर यह शब्द उल्टा क्यों लिखा रहता है.

ऐंबुलैंस की गाड़ी हमेशा जल्दी में रहती है चाहे उसे मरीज़ तक पहुंचना हो या मरीज़ को अस्पताल तक पहुंचाना हो. ऐंबुलैंस शब्द इसलिए उल्टा लिखा जाता है जिससे सड़क पर जा रहे दूसरे वाहन चालक अपनी गाड़ी के आइने में, उसे आसानी से पढ़ सकें और रास्ता छोड़ दें. क्योंकि उल्टा लिखा शब्द उन्हें सीधा दिखाई देगा.

कार्बन डाइऑक्साइड की खोज करने वाले वैज्ञानिक का नाम बताइए. उन्होंने कब खोज की. सोनभद्र उत्तर प्रदेश से पप्पू राव भारती.

आग
आग से कार्बनडाइऑक्साइड निकलती है

कार्बन डाइऑक्साइड एक रंगहीन गंधहीन गैस है जो पृथ्वी के वातावरण में कम मात्रा में उपस्थित है और ग्रीनहाउस गैस के रूप में काम करती है. सत्रहवीं शताब्दी के बैल्जियन रसायनज्ञ यान बैप्टिस्ट वान हैल्मॉंट ने देखा कि जब उन्होने एक बरतन में कोयला जलाया तो जो राख बची वह कोयले की मात्रा से बहुत कम थी. इसका उन्होने यह नतीजा निकाला कि बाकी का कोयला गैस में परिणित होकर ग़ायब हो गया. फिर सन 1750 के दशक में स्कॉटलैंड के रसायनज्ञ और चिकित्सक जोज़फ़ ब्लैक ने इस गैस के गुणों का विस्तृत अध्ययन किया और उसकी कार्बन डाइऑक्साइड के रूप में पहचान की. अगर इसके रासायनिक यौगिक की बात करें तो इसमें एक अणु कार्बन और दो अणु ऑक्सीजन होती है इसीलिए इसे सी ओ 2 के नाम से भी जाना जाता है.

बहरीन से धीरेन्द्र सिंह ने पूछा है कि शिलाजीत क्या होता है.

गर्मियों के महीनों में पर्वतों की चट्टानों की दरारों में से बहता एक पदार्थ होता है जिसे शिलाजित कहते हैं. भारत में यह हिमालय पर्वत मालाओं में मिलता है. पत्थरों के बीच में कुछ पेड़-पौधे जमे रहते हैं. कालान्तर में वो सूख जाते हैं और जब कड़ी धूप निकलती है तो एक गीले पदार्थ के रूप में बह निकलते हैं. ये चार तरह के बताए गए हैं स्वर्ण, रजत, ताम्र और लौह शिलाजीत. लौह शिलाजीत सबसे अच्छा माना जाता है. इसकी सबसे बड़ी विशेषता यह है कि यह एक रसायन है और रसायन होने के कारण इसका प्रयोग हर बीमारी के इलाज हो सकता है. विशेषकर मूत्रगत विकारों को दूर करने, मधुमेह जैसे रोगों के इलाज में, मस्तिष्क की शक्ति बढ़ाने, मोटापा कम करने और आयु बढ़ाने के लिए किया जाता है.

ढोली सकरा बिहार से दीपक कुमार दास यह जानना चाहते हैं कि थाईलैंड का पुराना नाम क्या था और क्या थाईलैंड कभी भारत का हिस्सा हुआ करता था.

थाईलैंड का पुराना नाम था सैयाम. 11 मई 1949 में इसे थाईलैंड कर दिया गया. थाई का अर्थ है आज़ादी. थाई संस्कृति पर सदा से पड़ोसी भारत और चीन का प्रभाव रहा है लेकिन थाईलैंड कभी भारत का हिस्सा नहीं रहा.

जोधपुर राजस्थान से जयराम चौधरी ने बीबीसी हिन्दी डॉट कॉम के ज़रिए पूछा है कि इसराइल का क्षेत्रफल और जनसंख्या कितनी है.

इसराइल का क्षेत्रफल है 22145 किलोमीटर और उसकी अनुमानित आबादी है 7026000.

मानव शरीर में सबसे छोटी और सबसे बड़ी मांस पेशी कौन सी है. ग्राम फुंलकाहा अररिया बिहार से शोभा कुमारी.

सबसे बड़ी मांसपेशी को ग्लूटियस मैक्सिमस कहा जाता है जिससे हमारे कूल्हे बनते हैं और सबसे छोटी मांसपेशी को स्टेपीडियस कहते हैं जो हमारे कान के भीतर होती है. यह मात्र 1.27 मिलिमीटर लम्बी होती है और हमारे शरीर की सबसे छोटी हड्डी स्टिरप को नियंत्रित करती है.

 
 
समुंदर का पानी नमकीन क्यों?समुंदर नमकीन!
नमक समुंदर के पानी से ही बनता है लेकिन उस पानी में नमक कहाँ से आता है.
 
 
टिक-टिक घड़ीघड़ी कब और कैसे बनी
घड़ी के आज अनेक रूप प्रचलित हैं लेकिन यह कब, किसने और कहाँ बनाई...
 
 
रामायणरामायण, रामायण...
वाल्मीकि और तुलसीदास की रामायण में क्या कोई अंतर है...
 
 
आइफ़िल टॉवरआईफ़िल... की ऊँचाई
आइफ़िल टॉवर कब, किसने और क्यों बनवाया. इसकी ऊँचाई कितनी है?
 
 
याहूयाहू का पूरा नाम?
इंटरनेट की दुनिया में याहू एक लोकप्रिय नाम है. लेकिन इसका पूरा नाम क्या है...
 
 
महात्मा गाँधीगाँधी के भाई-बहन
क्या आप जानना चाहेंगे कि महात्मा गाँधी के कितने भाई-बहन थे...
 
 
कबड्डीकबड्डी, कबड्डी, कबड्डी
कबड्डी का खेल कब और कहाँ शुरू हुआ और इसके क्या नियम हैं...
 
 
इससे जुड़ी ख़बरें
महाशक्ति के मज़लूम नागरिक
22 सितंबर, 2005 | पहला पन्ना
घड़ी का आविष्कार कब, कैसे और कहाँ?
15 फ़रवरी, 2007 | पहला पन्ना
वाल्मीकि रामायण, तुलसी रामायण!
10 फ़रवरी, 2007 | पहला पन्ना
महात्मा गाँधी के कितने भाई-बहन?
20 जनवरी, 2007 | पहला पन्ना
कबड्डी, कबड्डी, कबड्डी!!!
16 जनवरी, 2007 | पहला पन्ना
पलकों का एक साथ झपकना
13 जनवरी, 2007 | पहला पन्ना
इंटरनेट लिंक्स
बीबीसी बाहरी वेबसाइट की विषय सामग्री के लिए ज़िम्मेदार नहीं है.
सुर्ख़ियो में
 
 
मित्र को भेजें कहानी छापें
 
  मौसम |हम कौन हैं | हमारा पता | गोपनीयता | मदद चाहिए
 
BBC Copyright Logo ^^ वापस ऊपर चलें
 
  पहला पन्ना | भारत और पड़ोस | खेल की दुनिया | मनोरंजन एक्सप्रेस | आपकी राय | कुछ और जानिए
 
  BBC News >> | BBC Sport >> | BBC Weather >> | BBC World Service >> | BBC Languages >>