http://www.bbcchindi.com

ममता गुप्ता और महबूब ख़ान
लंदन

कोहिनूर हीरा कहाँ रखा है?

लंदन टॉवर का निर्माण कब और किसने किया. यह क्यों मशहूर है. ढोली सकरा बिहार से दीपक कुमार दास.

लंदन टॉवर, ब्रिटेन की राजधानी लंदन के केंद्र में टेम्स नदी के किनारे बना एक भव्य क़िला है जिसे सन् 1078 में विलियम द कॉंकरर ने बनवाया था. इसके लिए पत्थर फ़्रांस से मंगाए गए थे. इस परिसर में और भी कई इमारतें हैं. यह शाही महल तो था ही, साथ ही यहां राजसी बंदियों के लिए कारागार भी था और कई को यहां मृत्यु दंड भी दिया गया. हैनरी अष्टम ने अपनी रानी ऐन बोलिन का 1536 में यहीं सर क़लम कराया था और कहते हैं कि अब भी वो अपना सिर बगल में लिए क़िले में घूमती दिखाई दे जाती हैं. हां, इस क़िले की एक विशेषता और है कि यहां हमेशा से काले कौवे रहते आए हैं और यह किम्वदन्ती है कि जिस दिन ये कौवे टावर ऑफ़ लंडन छोड़ कर चले जाएंगे बस तभी राजशाही समाप्त हो जाएगी. राजपरिवार इस क़िले में नहीं रहता है लेकिन शाही जवाहरात इसमें सुरक्षित हैं जिनमें कोहिनूर हीरा भी शामिल है.

दिल्ली से पी सी बोस ने लिखा है कि यूं तो हीरा प्रकृति से मिलता है लेकिन यह कैसे बनता है.

हीरा दुनिया का सबसे सख़्त पदार्थ माना जाता है. पृथ्वी के गर्भ में ऐसे कई क्षेत्र हैं जहां सैकड़ों-सैकड़ों सालों तक कार्बन पदार्थ ज़बरदस्त दबाव और तापमान में रहने के कारण हीरे में परिणित हो गए. हीरे की कोई 50 प्रतिशत खानें मध्य और दक्षिणी अफ्रीका में हैं लेकिन कनाडा, भारत, रूस, ब्राज़ील और ऑस्ट्रेलिया में भी हीरा पाया जाता है. हीरे काटने का सबसे बड़ा केंद्र गुजरात के सूरत शहर में है. खान से निकला हीरा आम पत्थर की शक्ल का होता है उसे काटने और पॉलिश करने का काम हीरे से ही किया जाता है.

हीरे का सबसे लोकप्रिय आकार गोल होता है जिसे ब्रिलियंट कट कहते हैं. इसमें 57 फ़ैसेट या पहलू बनाए जाते हैं. अगर दो शीशे आमने-सामने रखे जाएं तो उससे प्रकाश प्रतिबिम्बित होगा लेकिन अगर 57 शीशे ज्यामितीय डिज़ाइन में लगाए जाएं तो अनुमान लगाइए कि कितना प्रकाश प्रतिबिम्बित होगा. इसी कटाई की वजह से हीरा इतना दमकता है.

ऐंटी डंपिंग ड्यूटी क्या होती है. ये सवाल किया है रक्सौल बिहार से आदित्य श्रीवास्तव और गांव माईल, कार्बी असम से लक्ष्मी नारायण अधिकारी ने.

विश्व व्यापार को खोलने के उद्देश्य से विश्व व्यापार संगठन के सदस्य देशों के बीच एक समझौता हुआ जिसके अधीन सदस्य देश अपना माल एक दूसरे के यहां निर्यात कर सकें. इसके लिए अनुकूल सुविधाएं प्रदान करना, कस्टम ड्यूटी कम करना और प्रतिबंध हटाना शामिल था. लेकिन उदारीकरण के साथ-साथ कुछ शर्तें भी तय की गईं जिससे कोई देश इसका नाजायज़ फ़ायदा न उठा सके. अगर एक देश के किसी उत्पाद की क़ीमत 100 रुपए है तो वह उसी क़ीमत पर दूसरे देश को निर्यात कर सकता. अगर वह 70 या 80 रुपए में उसे निर्यात करेगा तो उसपर आयात करने वाले देश की सरकार ऐंटी डंपिंग ड्यूटी लगा सकती है. जिससे देश की उन इकाइयों को नुक़सान न हो जो उस तरह का माल तैयार कर रही हैं.

प्रथम दादा साहब फाल्के पुरस्कार किसे और किस फ़िल्म के लिए दिया गया था. जानना चाहती हैं ग्राम रहमानगंज, किशनगंज बिहार से गीता देवी.

दादा साहब फाल्के पुरस्कार 1969 में सबसे पहले हिंदी फ़िल्मों की कलाकार देविका रानी को दिया गया था. इस पुरस्कार का गठन भारतीय फ़िल्मों के जन्मदाता माने जाने वाले दादा साहब फाल्के की जन्म शताब्दी के अवसर पर किया गया था. यह पुरस्कार भारतीय सिनेमा में अभूतपूर्व योगदान के लिए हर साल दिया जाता है. ढुंडीराज गोविंद फाल्के का जन्म 1870 में नासिक में हुआ था. उन्होंने मुंबई के जे जे स्कूल ऑफ़ आर्ट्स में पढ़ाई की, फिर वास्तुकला सीखी, चित्रकारी की, बाद में एक फ़ोटोग्राफ़र के साथ भी काम किया. लेकिन जब 1910 में उन्होंने द लाइफ़ ऑफ़ क्राइस्ट नामकी फ़िल्म देखी और बस तय कर लिया कि वे फ़िल्में ही बनाएंगे. सन 1912 में वो फ़िल्म कैमरा ख़रीदने और फ़िल्म बनाने की तकनीक सीखने लंदन आए और लौटकर उन्होंने अपनी पहली फ़िल्म बनाई राजा हरिश्चन्द्र जो 1913 में रिलीज़ हुई.

मनुष्य एक बार सांस लेते समय कितनी वायु अंदर खींचता है और मनुष्य के शरीर में कितनी कोशिकाएं होती हैं. गांव कोशिकापुर अररिया बिहार से मुकेश कुमार.

एक वयस्क मनुष्य आमतौर पर एक मिनट में 12 से 20 बार सांस लेता है. जबकि बच्चे एक मिनट में 40 बार तक सांस लेते हैं. वयस्क एक बार में 500 से लेकर 700 मिलीलीटर हवा भीतर खींचता है. इस हवा में 78 प्रतिशत नाइट्रोजन, 21 प्रतिशत ऑक्सीजन, 1 प्रतिशत अरगॉन, हीलियम, कार्बनडाइऑक्साइड और अन्य गैसें होती हैं. और जहां तक हमारे शरीर की कोशिकाओं की संख्या का सवाल है यह माना जाता है कि हमारे शरीर में कोई सौ खरब कोशिकाएं होती हैं. लेकिन याद रहे यह एक अनुमान है ठीक-ठीक कोई नहीं कह सकता कि एक औसत व्यक्ति के शरीर में कितनी कोशिकाएं होती हैं.

क्रिकेट की गेंद का क्या वज़न होता है. ये पूछा है बोरगाव मंजु, ज़िला अकोला महाराष्ट्र से सैय्यद ऐजाज़ अली मीर ने.

क्रिकेट की गेंद का वज़न 155.9 और 163 ग्राम के बीच होता है.

रज़िया सुल्तान के पिता का क्या नाम था. गांव रावतसर बाड़मेर राजस्थान से जसवंत सिंह डूडी.

दिल्ली सल्तनत पर राज करने वाली पहली महिला रज़िया सुल्तान के पिता थे शम्सुद्दीन इल्तुतमिश या अल्तमश. ये ग़ुलाम राजवंश के तीसरे सुल्तान थे और क़ुतबुद्दीन ऐबक के दामाद. उनके कई बेटे थे फिर भी उन्होंने अपनी बेटी रज़िया को अपना उत्तराधिकारी बनाया था. लेकिन जब उनकी मृत्यु हुई तो उनके बेटे रुक्नुद्दीन फ़िरोज़ ने गद्दी पर क़ब्ज़ा कर लिया. फिर रज़िया ने लोगों की मदद से अपने भाई को हराकर 1236 में गद्दी हासिल की.