http://www.bbcchindi.com

गुरुवार, 31 जनवरी, 2008 को 11:57 GMT तक के समाचार

ममता गुप्ता और महबूब ख़ान
बीबीसी संवाददाता, लंदन

कुछ लोग काले और कुछ गोरे क्यों?

सूरत गुजरात से सगीर अहमद जानना चाहते हैं कि अफ़्रीकी लोगों का रंग काला क्यों होता है जबकि यूरोपीय लोग गोरे होते हैं.

आज आनुवांशिकी विज्ञान ने इतनी प्रगति कर ली है कि मानव के जीनोम का नक्शा तैयार हो चुका है जिससे विभिन्न नस्लों के बारे में जो भी मिथक थे वो दूर हो गए हैं. अब यह साबित हो चुका है कि किसी एक व्यक्ति का डीएनए 99.9 प्रतिशत दूसरे व्यक्ति जैसा ही होता है, चाहे वे दोनों अलग-अलग जाति के ही क्यों न हों. बाक़ी 0.1 प्रतिशत में जो विविधता है वही एक व्यक्ति को दूसरे से अलग करती है. इस तथ्य के आधार पर जीव-विज्ञानी कहते हैं कि आज का मानव अफ़्रीका में 2 लाख साल पहले रहने वाले होमो सेपियन्स का वंशज है. यानी हम सबके पूर्वज अफ़्रीकी थे. अफ़्रीका बहुत गर्म प्रदेश है. सूर्य की पराबैंगनी किरणों से बचने में काला रंग बड़ी मदद करता है. त्वचा का रंग मैलेनिन नामक एक रसायन से निर्धारित होता है. मैलेनिन की मात्रा के अधिक होने से त्वचा का रंग काला हो जाता है. काला रंग फ़ोलेट नामक विटामिन बी को भी नष्ट होने से बचाता है. काली त्वचा सूर्य की तेज़ किरणों को भीतर जाने से रोकती है जिससे विटामिन डी3 का उत्पादन प्रभावित होता है. लेकिन जब मानव ठंडे प्रदेशों की ओर बढ़ा तो विटामिन डी3 की कमी से उसकी त्वचा का रंग हल्का पड़ने लगा. कुछ विशेषज्ञों का मानना है कि तेरह हज़ार साल पहले तक यूरोपीय लोगों का रंग गहरा हुआ करता था वो धीरे-धीरे गोरे हुए.

ग्राम राजन, गया बिहार से साधु साव सज्जन पूछते हैं कि एशिया की सबसे बड़ी नदी कौन सी है.

एशिया की सबसे बड़ी नदी है यैंग्त्से. इसका आधुनिक चीनी नाम है चांग जिआंग जिसका मतलब हुआ लंबी नदी. यह चीन के शिंघियाई प्रांत के ग्लेशियर से निकलकर कोई 6380 किलोमीटर की यात्रा तय करके शंघाई में पूर्वी चीन सागर में समा जाती है.

तलचर, अंगुल उड़ीसा से ज्योतिरंजन बिस्वाल यह जानना चाहते हैं कि हार्वी निकल्स क्या है.

ज्योतिरंजन जी हार्वी निकल्स विलास वस्तुओं का एक अंतर्राष्ट्रीय स्टोर है जिसकी शाखाएं ब्रिटेन के कई बड़े शहरों से लेकर, दुबई, रियाद, सउदी अरब, हॉंग कॉंग और चीन में भी हैं. यहां दुनिया के सबसे नामी गिरामी ब्रैंड के कपड़े, सौन्दर्य प्रसाधन की चीज़ें, घर की साज सज्जा का सामान और खाने पीने का सामान मिलता है. इसकी शुरुआत 1813 में लंदन के मशहूर नाइट्सब्रिज इलाक़े में एक छोटी सी कपड़ों की दुकान से हुई थी.

ब्लैक होल क्या होता है. ये सवाल किया है भुवनेश्वर उड़ीसा से सिद्धार्थ और सुपौल बिहार से सत्येंद्र कुमार ने.

ब्लैक होल अंतरिक्ष में ऐसा क्षेत्र होता है जिसके द्रव्यमान का घनत्व इतना बढ़ जाता है कि आस-पास का कोई भी पिंड उसके गुरुत्वाकर्षण से बच नहीं पाता, प्रकाश भी नहीं और इसलिए वह दिखाई नहीं देता. जब किसी बड़े तारे का पूरा का पूरा ईंधन जल चुकता है तो उसमें एक ज़बरदस्त विस्फोट होता है जिसे सुपरनोवा कहते हैं. विस्फोट के बाद जो पदार्थ बचता है वह धीरे धीरे सिमटना शुरू होता है और बहुत ही घने पिंड का रूप ले लेता है जिसे न्यूट्रॉन स्टार कहते हैं. अगर न्यूट्रॉन स्टार बहुत विशाल है तो गुरुत्वाकर्षण का दबाव इतना होगा कि वह अपने ही बोझ से सिमटता चला जाएगा और इतना घना हो जाएगा कि ब्लैक होल बन जाएगा और दिखाई नहीं देगा. सवाल ये उठता है कि जब ब्लैक होल दिखाई ही नहीं देता, तो ये कैसे कहा जा सकता है कि यह ब्लैक होल है. इसके कुछ प्रमाण हैं. एक तो जब भी कोई पिंड या पदार्थ ब्लैक होल के नज़दीक पहुंचता है तो उसकी तरफ़ खिंचता चला जाता है. इस प्रक्रिया में वह लाख़ों डिग्री के तापमान पर जलता है और फिर ग़ायब हो जाता है जो इस बात का प्रमाण है कि वह ब्लैक होल में समा गया. एक और प्रमाण ये है कि जहां ब्लैक होल होता है उसके गुरुत्वाकर्षण क्षेत्र के आस पास मौजूद तारे उसका चक्कर लगाते रहते हैं. इनकी गति को देखकर खगोलज्ञ ब्लैक होल की स्थिति और उसके आकार का अनुमान लगा सकते हैं.

ग्राम नेगुरा बान सिंह, ज़िला मिर्ज़ापुर से ब्रजेश कोटहा और प्रमिला कोटहा पूछते हैं कि रेखांकित बैंक ड्राफ़्ट क्या होता है. रेखांकित और ग़ैर रेखांकित ड्राफ़्ट में क्या अंतर है और रेखांकित करने का सही तरीक़ा क्या है.

चैक या डिमांड ड्राफ़्ट में बाईं तरफ़ या कभी कभी बीच में दो समानान्तर रेखाएं खिंची रहती हैं. इन्हीं को रेखांकित चैक या डिमांड ड्राफ़्ट कहते हैं. इनमें नॉन नैगोशिएबिल या अकाउन्ट पेयी भी लिखा रहता है. इससे वह सामान्य चैक या डिमान्ड ड्राफ़्ट के मुक़ाबले अधिक सुरक्षित हो जाता है क्योंकि बैंक उसी अकाउन्ट में वो पैसे जमा करता हैं जिसके लिए वह बनाया गया है. रेखांकित करने का सही तरीक़ा है चैक या डिमांड ड्राफ़्ट की बाईं तरफ़ समानांतर रेखाएं खींचना और उसमें अकाउन्ट पेयी या नॉन नैगोशिएबिल लिखना और साथ ही पेयी के बराबर में लिखा बियरर शब्द काट दिया जाए.

इंदौर मध्य प्रदेश से अंशुल जोशी पूछते हैं कि भोजन को हज़म करने में कितना समय लगता है.

जब भोजन हमारे पेट में पहुंचता है तो वहां कई तरह के पाचक रस आकर मिलते हैं और उसका मंथन शुरु होता है. उसमें से प्रोटीन, शर्करा और चर्बी अलग होती है. फिर हमारे जिगर से निकला रस चर्बी को पचाता है. पेट से यह भोजन छोटी आंतों में पहुंचता है जहां आंतों की दीवारें पोषक तत्वों को सोख लेती हैं. इस प्रक्रिया में कोई 6 से 8 घंटे लगते हैं. उसके बाद यह भोजन बड़ी आंतो में पहुंचता है जहां पाचन क्रिया जारी रहती है. जो कुछ नहीं पच पाया उसे हमारे शरीर से निकलने में कोई 24 घंटे लगते हैं. वैस पाचन इस बात पर निर्भर करता है कि आपने क्या खाया है. मांस को हज़म करने और आंतों से बाहर निकलने में दो तीन दिन लग जाते हैं जबकि सब्ज़ियों और फलों को कोई 12 घंटे लगते हैं.

खगड़िया बिहार से पूर्णिमा शर्मा पूछती हैं कि काला नमक काला क्यों होता है.

पूर्णिमा जी काला नमक काला नहीं बल्कि हल्के बैंगनी रंग का होता है. यह खनिज नमक है जिसमें गंधक की महक आती है. बहुत से भारतीय खानों में इसका इस्तेमाल किया जाता है. आयुर्वेदिक दवाओं में भी इसका प्रयोग किया जाता है. क्योंकि यह पाचक है, पेट की गैस और अम्लचूल को शान्त करता है और जिन लोगों को उच्च रक्तचाप की शिकायत होती है उनके लिए सादा नमक से बेहतर है.

भारत की लोनार झील के बारे में जानकारी मांगी है दीपक दिनकर किरोटे ने.

महाराष्ट्र के विदर्भ क्षेत्र के बुल्दाना ज़िले में एक शहर है लोनार. और इस शहर की विशेषता है कि यहां एक झील है जो माना जाता है कि कोई 40 हज़ार साल पहले एक उल्कापिंड के पृथ्वी पर आकर गिरने से बनी. इसके किनारों पर बारहवीं और तेरहवीं शताब्दी में कई मंदिर बनाए गए लेकिन अब सभी खंडहर हो चुके हैं.