BBCHindi.com
अँग्रेज़ी- दक्षिण एशिया
उर्दू
बंगाली
नेपाली
तमिल
 
 
मित्र को भेजें   कहानी छापें
मधुबाला का नाम और मुस्कुराहट!
 

 
 
मधुबाला
लोकप्रिय फ़िल्म मुग़ले आज़म में मधुबाला ने दिलीप कुमार के साथ काम किया
अपनी मुस्कुराहट और अदभुत अभिनय के लिए मशहूर मधुबाला का असली नाम क्या था. उनका जन्म कब और कहाँ हुआ. यह सवाल पूछा है बांदा उत्तर प्रदेश से हरिश्चंद्र बाजपेयी ने.

मधुबाला का जन्म 14 फ़रवरी 1933 को दिल्ली में एक मुस्लिम पठान परिवार में हुआ था. उनका नाम रखा गया था मुमताज़ बेगम जहाँ देहलवी. उनके पिता अताउल्लाह ख़ान के कुल 11 बच्चे थे. वे बेहतर ज़िन्दगी की तलाश में मुंबई चले आए और फ़िल्म स्टूडियो में काम ढूंढने लगे. मुमताज़ ने 9 साल की उम्र में बसंत नामक फ़िल्म से काम शुरू किया लेकिन उस समय की मशहूर कलाकार देविका रानी ने उनकी अभिनय क्षमता को पहचाना और उन्हें मधुबाला नाम रखने का सुझाव दिया. देखते ही देखते मधुबाला हिंदी फ़िल्मों की मशहूर तारिका बन गईं. लेकिन उनकी सेहत अच्छी नहीं थी और 23 फ़रवरी 1969 में 36 साल की उम्र में मुमताज बेगम जहाँ देहलवी उर्फ़ मधुबाला का निधन हो गया.

आजकल घरों में सीएफ़एल बल्ब का इस्तेमाल हो रहा है. ये क्या हैं और किस विधि से काम करते हैं. पूछते हैं जलकौड़ा खगड़िया बिहार से ख़ालिद नजमी और मरैया, खगड़िया बिहार से मोहम्मद मौज अहमद लतीफ़ी.

सीएफ़एल या कॉम्पैक्ट फ़्लोरेसैंट लैम्प ऐसे बल्ब होते हैं जो कम बिजली ख़र्च करते हैं और लंबे समय तक चलते हैं. इनकी तकनोलॉजी बड़ी साधारण है. ये सामान्य बल्बों के मुक़ाबले 75 प्रतिशत कम बिजली का इस्तेमाल करते हैं और वो इसलिए, क्योंकि इनकी घुमावदार ट्यूब में सल्फ़र पाउडर होता है जिसकी वजह से उनकी रोशनी दूधिया रंग की होती है और वो कम वोल्टेज पर भी अधिक चमकती है. सीएफ़एल बल्ब क्योंकि कम बिजली इस्तेमाल करते हैं इसलिए ये पर्यावरण के लिए अच्छे माने जाते हैं. वैसे इन बल्बों का दाम सामान्य बल्ब से कहीं अधिक होता है लेकिन क्योंकि ये सामान्य बल्ब की अपेक्षा 8 से 15 गुना अधिक चलते हैं और कम बिजली ख़र्च करते हैं इसलिए सस्ते पड़ते हैं.

गांव दियालेख, ज़िला अल्मोड़ा, उत्तरांचल से सुंदर एस नेगी ने पूछा है कि हवाई जहाज़ में कितने इंजन होते हैं.

विमान

हवाई जहाज़ में इंजनो की संख्या इस बात पर निर्भर करती है कि कितना थ्रस्ट फ़ोर्स या आगे बढ़ने का बल चाहिए. विमान बनाने वाले इंजीनियर लिफ़्ट और थ्रस्ट इन दो बलों का निर्माण करते हैं. थ्रस्ट के लिए विमान में इंजन लगाए जाते हैं. बड़े विमान में अधिक इंजन चाहिए. ख़ासकर यात्री विमानों में कम से कम दो इंजन होते हैं जिससे अगर एक काम करना बंद कर दे तो दूसरे के बल पर विमान को सुरक्षित उतारा जा सके. किसी किसी विमान में एक ही इंजन होता है और विश्व रेकार्ड आठ इंजनो तक का है जिसमें दोनों पंखों पर चार-चार इंजन थे.

गांव माइलु कार्बिऑंलंग असम से लक्ष्मी नारायण अधिकारी जानना चाहते हैं कि पंचवर्षीय परिकल्पना के जनक कौन थे.

सोवियत संघ के नेता जोज़फ़ स्टालिन ने 1928 में पंचवर्षीय योजना की शुरुआत की थी. जब उन्होंने सत्ता संभाली तो सोवियत संघ काफ़ी पिछड़ा हुआ देश था. अधिकांश आबादी खेती करती थी और औद्योगीकरण नहीं के बराबर था. स्टालिन के सलाहकारों ने कहा कि खेती के आधुनिकीकरण के लिए 250 हज़ार अतिरिक्त ट्रैक्टर चाहिए. उन्हें चलाने के लिए तेल की ज़रूरत थी. इसलिए 1928 में पहली पंचवर्षीय योजना लागू की गई जिसका उद्देश्य लोहा, इस्पात, मशीनें, बिजली और यातायात के साधनों का विकास करना था. स्टालिन ने बड़े मुश्किल लक्ष्य रखे थे जिन्हें प्राप्त करने के लिए बड़ी सख़्ती बरती जाती थी. जो लोग ये लक्ष्य प्राप्त न कर पाते उन्हें लेबर कैम्पों में भेज दिया जाता. नतीजा ये हुआ कि कोयले, तेल, बिजली और लोहे का उत्पादन कई कई गुना बढ़ गया.

मानव का नाम होमोसेपियन कैसे पडा. वैशाली बिहार से आदित्य राज दयालपुर.

होमो सेपियन शब्द लैटिन भाषा का है जिसका मतलब है बुद्धिमान आदमी. होमो शब्द मानव जाति और उसके क़रीबी जीवों के लिए इस्तेमाल किया जाता है जबकि सेपियन का अर्थ है बुद्धिमान.

न्यूयॉर्क से उमेश यादव ने पूछा है कि आंखों में लगाए जाने वाले काजल का इस्तेमाल सबसे पहले कहाँ किया गया.

उमेश जी श्रंगार प्रसाधनों का इस्तेमाल कम से कम 6000 साल पुराना है लेकिन ये ठीक ठीक कह पाना संभव नहीं कि काजल का इस्तेमाल पहले कहाँ हुआ. प्राचीन मिस्र के भित्तिचित्रों में महिलाओं की आँखों के किनारे काले रंग से रंगे दिखाए गए हैं. अन्य प्राचीन सभ्यताओं में भी इसके प्रमाण मिलते हैं. भारत में काजल का प्रयोग बच्पन से ही होने लगता है. यह माना जाता है कि इससे आंखों की रोशनी तेज़ होती है और बच्चे को बुरी नज़र से बचाया जा सकता है.

 
 
भारत या इंडिया? भारत या इंडिया?
भारत का एक नाम इंडिया भी है. जानना चाहेंगे कि कैसे पड़ा यह नाम?
 
 
भारतीय तिरंगा तिरंगा किसने बनाया?
क्या आप जानना चाहेंगे कि भारतीय तिरंगा किसने और कब बनाया?
 
 
सूरज धूप का असली रंग?
धूप सफ़ेद क्यों नज़र आती है जबकि उसमें अनेक रंग होते हैं. क्या है यह पहेली?
 
 
छींक अक्सर नाक में दम कर देती है आप छींके तो...
छींक कभी-कभी नाक में दम कर देती है लेकिन यह आती ही क्यों है...
 
 
पैदल चलना सेहत के लिए अच्छा है कितने क़दम चले
स्वस्थ रहने के लिए रोज़ाना दस हज़ार क़दम चलना चाहिए लेकिन गिनें कैसे...
 
 
मच्छर एक मच्छर...
इंसान को बेचैन करने की ताक़त रखने वाले मच्छर की आख़िर नस्ल क्या है.
 
 
पृथ्वी पृथ्वी घूमने से...
पृथ्वी घूमने का अनुभव क्यों नहीं होता और छठी इंद्री कैसे जगाई जाती है...
 
 
इससे जुड़ी ख़बरें
ज़ोर देकर शराब पिलाने पर जुर्माना
07 मई, 2007 | मनोरंजन एक्सप्रेस
आधी रात को सूरज का नज़र आना!
08 दिसंबर, 2007 | पहला पन्ना
हवा कैसे चलती है...
27 नवंबर, 2007 | पहला पन्ना
तितली की आँखें तो बड़ी मगर...
27 सितंबर, 2007 | पहला पन्ना
सुर्ख़ियो में
 
 
मित्र को भेजें   कहानी छापें
 
  मौसम |हम कौन हैं | हमारा पता | गोपनीयता | मदद चाहिए
 
BBC Copyright Logo ^^ वापस ऊपर चलें
 
  पहला पन्ना | भारत और पड़ोस | खेल की दुनिया | मनोरंजन एक्सप्रेस | आपकी राय | कुछ और जानिए
 
  BBC News >> | BBC Sport >> | BBC Weather >> | BBC World Service >> | BBC Languages >>