BBCHindi.com
अँग्रेज़ी- दक्षिण एशिया
उर्दू
बंगाली
नेपाली
तमिल
 
शुक्रवार, 30 जनवरी, 2009 को 03:15 GMT तक के समाचार
 
मित्र को भेजें   कहानी छापें
ग़ज़ा पर गर्मागर्मी के बाद 'वॉकआउट'
 
अर्दोगान (फ़ोटो में पेरेस बैठे नज़र आ रहे हैं)
दुख है कि आपके भाषण पर लोग तालियाँ बजाते हैं जबकि आपने लोगों को मारा है: अर्दोगान
विश्व आर्थिक मंच की बैठक में इसराइली राष्ट्रपति के साथ ग़ज़ा मुद्दे पर गर्मागर्मी के बाद तुर्की के प्रधानमंत्री रेसेप तैय्यप अर्दोगान बैठक से उठकर चले गए.

स्विट्ज़रलैंड के दावोस शहर में विश्व आर्थिक मंच की बैठक चल रही है जहाँ विश्व में आर्थिक संकट के चलते विभिन्न देशों के नेता राजनीतिक और व्यापार नीतियों पर बहस कर रहे हैं.

गर्मागर्मी तब हुई जब इसराइल के राष्ट्रपति शिमॉन पेरेस ने कहा कि हमास के ख़िलाफ़ कार्रवाई इसराइल पर थोपी गई क्योंकि हमास ने देश पर हज़ारों रॉकेट और गोले दागे थे.

 ग़ज़ा की त्रास्दी इसराइल नहीं हमास है. उन्होंने रॉकेट क्यों दागे. ग़ज़ा की कोई नाकेबंदी नहीं की गई थी. उन्होंने हमसे लड़ाई क्यों की, वो क्या चाहते थे. ग़ज़ा में एक दिन भी कोई भूखमरी का शिकार नहीं हो रहा था
 
इसराइली राष्ट्रपति पेरेस

'कम समय दिया गया'

उनका कहना था, "ग़ज़ा की त्रास्दी इसराइल नहीं हमास है. उन्होंने रॉकेट क्यों दागे. ग़ज़ा की कोई नाकेबंदी नहीं की गई थी. उन्होंने हमसे लड़ाई क्यों की, वो क्या चाहते थे. ग़ज़ा में एक दिन भी कोई भूखमरी का शिकार नहीं हो रहा था."

उधर तुर्की के प्रधानमंत्री अर्दोगान, जिन्होंने ग़ज़ा को 'ओपन एयर प्रिज़न' यानी खुली जेल की संज्ञा दी थी, इस पर भड़क गए.

अर्दोगान चिल्लाए कि अनेक लोग मारे गए हैं.

जब पेरेस के भाषण पर तालियाँ बजीं तो अर्दोगान बोले, "मुझे दुख होता है कि आपके भाषण पर लोग तालियाँ बजाते हैं. आपने लोगों को मारा है और मुझे लगता है कि ये ग़लत है."

लेकिन जब उन्हें बोलने का और वक्त नहीं दिया गया तो अर्दोगान का कहना था,"मुझे नहीं लगता की मैं दोबारा दावोस लौटूँगा क्योंकि आप मुझे बोलने नहीं देते.

 मुझे दुख होता है कि आपके भाषण पर लोग तालियाँ बजाते हैं. आपने लोगों को मारा है और मुझे लगता है कि ये ग़लत है
 
प्रधामंत्री अर्दोगान

इसके बाद वे इसराइली राष्ट्रपति पेरेस, संयुक्त राष्ट्र महासचिव बान की मून और अनेक देशों के मंत्रियों और अधिकारियों के सामने उठकर बाहर चले गए.

फ़लस्तीनी संगठन हमास और इसराइल के बीच ग़ज़ा पर संघर्षविराम दिसंबर में ख़त्म हो जाने के बाद दोनों पक्षों के बीच हिंसा भड़क उठी थी. जहाँ इसराइली हवाई और ज़मीनी हमलों में 1300 फ़लस्तीनी मारे गए थे वहीं हमास के रॉकेट हमलों में 14 इसराइली मारे गए थे.

तुर्की के प्रधानमंत्री अर्दोगान ने कहा कि वे उठकर इसलिए नहीं चले गए क्योंकि राष्ट्रपति पेरेस के साथ उनके मतभेद थे, लेकिन इसलिए क्योंकि उन्हें इसराइली नेता के मुकाबले में बहुत कम समय दिया गया.

 
 
इससे जुड़ी ख़बरें
टाइम की पर्यावरण सूची में दो भारतीय
23 अक्तूबर, 2007 | पहला पन्ना
सुर्ख़ियो में
 
 
मित्र को भेजें   कहानी छापें
 
  मौसम |हम कौन हैं | हमारा पता | गोपनीयता | मदद चाहिए
 
BBC Copyright Logo ^^ वापस ऊपर चलें
 
  पहला पन्ना | भारत और पड़ोस | खेल की दुनिया | मनोरंजन एक्सप्रेस | आपकी राय | कुछ और जानिए
 
  BBC News >> | BBC Sport >> | BBC Weather >> | BBC World Service >> | BBC Languages >>