बलूचिस्तान में बाढ़ में 50 लोग बहे

लाहौर का हाल
Image caption पाकिस्तान के कई हिस्सों में मानसून की बारिश से जीवन ठहर गया है

पाकिस्तान के बलूचिस्तान प्रांत के कई शहरों में भारी वर्षा ने तबाही मचा दी है जिस की वजह से 50 लोग अचानक आई बाढ़ में बह गए हैं. अभी तक 30 शव बरामद किए जा चुके हैं.

अधिकारियों का कहना है कि मानसून की भारी बारिश से प्रांत में पाँच सौ से अधिक लोग फँसे हुए हैं जिन्हें निकालने के लिए सेना को बुलाया गया है.

राजधानी क्वेटा से करीब तीन सौ किलोमीटर उत्तर स्थित बारख़ान ज़िले में मानसून की तूफानी बारिशों का सिलसिला बुधवार रात से शुरु हुआ और गुरुवार सुबह तक बारिश होती रही.

बाढ़ से बड़ी संख्या में मवेशी भी मारे गए हैं.

बारखान के एक वरिष्ठ नेता सरदार अब्दुर्रहमान खेतरान का कहना है कि पिछले सौ सालों में इस ज़िले में इतनी बारिश नहीं हुई.

उनके अनुसार नदी नालों में बाढ़ के कारण कई बंद टूट चुके हैं और पानी ज़्यादा होने की वजह से राहत कार्यों में दिक्कतें आ रही हैं.

बारखान ज़िले के एक अधिकारी बाबू ग़ुलाम हुसैन ने बीबीसी को बताया कि मारे गए अधिकतर लोगों का संबंध बलूचिस्तान के कोहलू ज़िले से है.

उनके अनुसार बारिश से कई ज़िलों में फसलें नष्ट हो गई हैं.

उधर बलूचिस्तान के एक और ज़िले सिब्बी में पाँच सौ से अधिक लोग पानी में फंसे हुए हैं जिन को निकालने के लिए राहत कार्य शुरु कर दिया गया है.

ज़िला सिब्बी के वरिष्ठ अधिकारी शाहिद सलीम कुरैशी ने बताया कि तली नामक स्थान का सिब्बी और प्रांत के दूसरे इलाक़ों से संपर्क टूट गया है जबकि फँसे हुए लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुँचाने के लिए सेना के हेलीकॉप्टर को बुलाया गया है.

संबंधित समाचार