पाकिस्तान में बाढ़, 150 मरे

  • 30 जुलाई 2010
पाकिस्तान में बाढ़

पाकिस्तान में पिछले कुछ दिनों से जारी भारी बारिश और बाढ़ के कारण 150 से अधिक लोग मारे गए हैं. देश की नेशनल डिज़ास्टर मैनेजमेंट एजेंसी ने एक वक्तव्य जारी कर इस बात की पुष्टि की है.

सब से ज़्यादा बारिश ख़ैबर पख़्तूनख़्वां प्रांत में हुई हैं. इस क्षेत्र से क़रीब 91 लोगों को पेशावर के अस्पतालों में भर्ती करवाया गया है.

ख़ैबर पख़्तुनख़्वा प्रांत में सोलह हज़ार के क़रीब लोग अब भी बाढ़ में फंसे हुए हैं.

नेशनल डिज़ास्टर मैनेजमेंट ने अपने वक्तव्य में कहा गया है कि बाढ़ में फ़ंसे लोगों को सेना की सहायता से निकालने की कोशिश जा रही है.

ख़ैबर पख़्तूनख़्वा के सूचना एवं प्रसारण मंत्री मियाँ इफ्तिख़ार हुसैन ने पेशावर में पत्रकारों से बातचीत करते हुए कहा, “इस समय पूरा प्रांत भीषण बाढ़ की चपेट में है और 4 लाख के करीब लोग इस बाढ़ से प्रभावित हुए हैं.”

उन्होंने बताया कि इस आपदा से निपटने के लिए प्रांत में आपातकाल लागू कर दिया गया है और सभी सरकारी कर्मचारियों की छुट्टियाँ भी ख़त्म कर दी गई हैं.

मियाँ इफ्तिख़ार ने कहा, “प्रांत के कई गांव बाढ़ के पानी में बह गए हैं और भारी बारिश से स्थिति गंभीर हो गई है.”

प्रांतीय मंत्री के अनुसार ज़िला शांगला, अपर दीर, अलाई, करक, टांक और कई अन्य ज़िलों में घर बहने की घटनाओं में 60 के करीब लोग मारे गए हैं.

ग़ौरतलब है कि पेशावार और प्रांत के कई शहरों में पिछले दो दिनों से बारिश हो रही हैं और कई इलाक़ों में पानी मौजूद है जिसकी वजह से सैंकड़ों घर बह गए हैं.

मुख्य मार्ग बंद

Image caption पाकिस्तान में बारिश और बाढ़ से पिछले दो दिनों में 60 लोग मर चुके हैं.

पेशावर के अधिकतर इलाक़ों में सड़कों पर पानी होने की वजह से यातायात ठप हो गया है और शहर से पाकिस्तान के दूसरे शहरों के लिए बस सेवाओं को भी रद्द कर दिया गया है.

पेशावर के इस्लामाबाद से जोड़ने वाला मुख्य मार्ग भी कई घंटों तक बंद रहा.

उधर ख़ैबर पख़्तूनख़्वा के मुख्यमंत्री अमीर हैदर ख़ान होती की अध्यक्षता में एक उच्च स्तरीय बैठक में प्रांत में बाढ़ और बारिश से होनी वाली तबाही की समीक्षा की गई.

इस बैठक में बाढ़ से प्रभावित लोगों को सुरक्षित स्थानों पर बसाने के लिए सभी साधनों का प्रयोग करना का संकल्प लिया गया.

इस्लामाबाद, रावलपिंडी और उस के आस-पास के शहरों में पिछले कई घंटों से लगातार बारिश हो रही है लेकिन इस क्षेत्र में अभी तक किसी जानी नुक़सान की ख़बर नहीं मिली है.

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार