बाढ़ में सैकड़ों लोगों की मौत

पाकिस्तान और अफ़ग़ानिस्तान में मानसून की भारी बारिश के कारण आई बाढ़ में सैकड़ों लोग मारे गए हैं.

पाकिस्तान के सूबा सरहद में 325 लोगों की मौत हो गई है जबकि अफ़ग़ानिस्तान में 60 लोग मारे गए हैं. पाकिस्तान में कई नदियों के बाँध टूट गए हैं, जिसके कारण गाँव और सड़कें बह गई हैं और पुल टूट गए हैं.

इन इलाक़ों में बिजली काट दी गई है, ताकि करंट लगने से लोगों की मौत न हो. अधिकारियों का कहना है कि इस इलाक़े में 80 वर्षों में पहली बार इतनी बारिश हुई है.

अनुमान जताया जा रहा है कि आने वाले समय में यहाँ और बारिश हो सकती है. बाढ़ के कारण पाँच लाख लोग विस्थापित हो गए हैं. सैकड़ों लोग पानी में डूब गए, जबकि पुल गिरने के कारण भी बड़ी संख्या में लोग मारे गए हैं.

असर

परिवहन और दूरसंचार संपर्क बुरी तरह प्रभावित हुए हैं. इस्लामाबाद से बीबीसी संवाददाता अलीम मक़बूल ने कहा है कि बाढ़ से बुरी तरह प्रभावित इलाक़ों से दूर के क्षेत्रों में भी परिवहन और दूरसंचार संपर्कों पर असर पड़ा है.

पाकिस्तान की चैरिटी संस्था एधी फ़ाउंडेशन के एक प्रवक्ता अनवर काज़मी ने बताया, "अभी तक हमें सूबा सरहद और कश्मीर (पाकिस्तान प्रशासित) में बाढ़ के कारण 325 लोगों के मारे जाने की सूचना मिली है."

इस चैरिटी संस्था के मुताबिक़ पिछले तीन दिनों में ख़ैबर पख़्तूनख्वा प्रांत में 300 लोग मारे गए हैं. जबकि मुज़फ़्फ़राबाद में 25 लोगों की मौत हुई है.

दूसरी ओर काबुल से बीबीसी संवाददाता का कहना है कि अफ़ग़ानिस्तान के दक्षिण पूर्वी ख़ोस्त प्रांत और पूर्वी लग़मान प्रांत में अफ़ग़ान नेशनल आर्मी के जवान आम लोगों की मदद कर रहे हैं.

लेकिन स्थानीय लोगों का कहना है कि अभी और सहायता की आवश्यकता है. पहाड़ी इलाक़ा और अच्छी सड़क न होने के कारण सहायता कार्यों में बाधा आ रही है.

संबंधित समाचार