बाढ़ से दस लाख लोग प्रभावित

  • 31 जुलाई 2010

संयुक्त राष्ट्र का कहना है कि पाकिस्तान के सूबा सरहद में भारी बारिश के कारण आई बाढ़ से कम से कम 10 लाख लोग प्रभावित हुए हैं.

अब तक 800 लोगों की मौत हो चुकी है. अधिकारियों का कहना है कि ये संख़्या बढ़ने की आशंका है क्योंकि बहुत सारे इलाक़े कटे हुए हैं. पूर्वानुमान के मुताबिक और बारिश होगी.

राहतकर्मियों को प्रभावित इलाक़ों तक पहुँचने में परेशानी हो रही है. इन इलाक़ों में सड़कें और संचार माध्यम काम नहीं कर रहे.

इलाक़े का सबसे बड़ा शहर पेशावर भी बाकी हिस्सों से कटा हुआ है. वहाँ की आबादी तीस लाख है.

पाकिस्तान में संयुक्त राष्ट्र अधिकारी मैनुएल बेसलर ने बीबीसी को बताया कि वे ठीक से नहीं बता सकते कि हालात कितने ख़राब हैं क्योंकि वे अपने कार्यालय तक नहीं पहुँच पाए हैं.

उन्होंने कहा, “जब पानी कम हो जाएगा तभी नुकसान का असली जायज़ा लिया जा सकता है. हमारा ज़ोर इस बात पर है कि लोगों को रहने की जगह, स्वास्थ्य सुविधाएँ, पानी और पका पकाया खाना मुहैया करवाया जाए क्योंकि ऐसे हालात में खाना बनाना बहुत मुश्किल है.”

राहत कार्यों में दिक्कत

संयुक्त राष्ट्र अधिकारी ने चिंता जताई कि पहले से ही उफ़ान में आई नदियाँ अपना पानी सिंध जैसे सूबों में बहा ले जाएँगी जहाँ पहले से ही भारी बारिश का अनुमान है.

पाकिस्तान सरकार ने आपातकाल घोषित कर दिया है. मौसम विभाग ने कहा है कि सूबा सरहद में 36 घंटों में 12 इंच बारिश हुई है जो पिछले कुछ दशकों में सबसे ज़्यादा है.

स्वात और शंघला ज़िले और अफ़ग़ानिस्तान के कुछ हिस्से कटे हुए हैं. अफ़ग़ानिस्तान में 60 लोग मारे जा चुके हैं.

बड़ी संख्या में लोग बेघर हो गए हैं. कई जगह तटबंध टूटने के कारण ब्रिज और सड़कें धुल गई हैं. स्वात में ही कोई 45 पुल नष्ट हो गए हैं.

बाढ़ प्रभावित इलाक़ों का दौरा कर रहीं बीबीसी की लिस डुसेट ने कहा है कि करीब पांच लाख लोग पानी से घिरे हुए हैं और उन्होंने ऊँची जगहों पर शरण ली है.

हेलिकॉप्टरों से लिए गए टीवी फ़ुटेज से पता चलता है कि बहुत से लोग अपने घरों की छतों से चिपटे हुए हैं.

ज़रूरी सामग्री पहुँचाने के लिए सेना और राहतकर्मी हेलिकॉप्टरों का इस्तेमाल कर रहे हैं. फँसे हुए लोगों को इलाक़ों से निकालने के लिए करीब 17 हेलिकॉप्टरों का उपयोग हो रहा है.

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार