पाकिस्तान को मिली दुनियाभर से मदद

पाकिस्तान में बाढ़

बाढ़ से निपटने के लिए पाकिस्तान सरकार को दुनियाभर से मदद मिल रही है. संयुक्त राष्ट्र और अमरीका ने पाकिस्तान को एक करोड़ डॉलर की मदद देने का एलान किया है वहीं चीन भी मदद के लिए आगे आया है.

इस्लामाबाद से बीबीसी संवाददाता अलीम मक़बूल का कहना है कि प्रभावित इलाक़ों तक पहुँचने के बाद ही बाढ़ के असर का असली अंदाज़ा हो पाएगा.

राहत कार्यों में जुटी अंतरराष्ट्रीय संस्था ‘वर्ल्ड विज़न’ के स्थानीय प्रबंधक शारियार ख़ान बंगश ने बताया कि बाढ़ से सबसे प्रभावित इलाकों में जीवित बचे लोग अपने तक साफ पानी पहुंचाए जाने की गुहार लगा रहे हैं.

उन्होंने बीबीसी को बताया कि, “ ये लोग कह रहे हैं कि, ‘इस वक्त हमें खाना नहीं चाहिए, लेकिन पीने का पानी हमारी ज़रूरत है. पानी के कुंए मिट्टी और गाद से भर चुके हैं और उनसे पानी नहीं पिया जा सकता.’’

'ऑक्सफैम' के मानवतावादी दस्ते की निदेशक जेन कॉकिंग ने कहा कि," लोगों को अगर जल्द से जल्द सिर छिपाने की जगह, खाने का सामान, पीने का पानी, शौचालय और डॉक्टरी मदद मिल जाए तो मरने वालों की संख्या और तबाही पर नियंत्रण किया सकता है.’’

ख़ैबर-पख़्तूनख़्वा प्रांत के आपदा प्रबंधन विभाग का कहना है कि बाढ़ और भूस्खलन से प्रभावित लोगों की संख्या 15 लाख से भी ज़्यादा है.

कुछ इलाकों में बाढ़ का पानी उतरने लगा है लेकिन ज़्यादातर इलाकों में और ज्यादा बारिश होने के आसार है.

रविवार को कुछ समय के लिए सूबे के बाढ़ प्रभावित इलाकों में आवाजाही के लिए ढील दी गई. इस दौरान राहत का सामान इलाकों तक पहुंचा और कुछ लोग प्रभावित इलाकों से निकलने में भी कामयाब हुए.

संबंधित समाचार