गुदू बैराज के टूटने का ख़तरा बढ़ा

पाकिस्तान में बाढ़
Image caption पाकिस्तान में आई बाढ़ से एक करोड़ से अधिक लोगों को विस्थापित होना पड़ा है

दक्षिणी पाकिस्तान में स्थित गुदू बैराज के टूटने का ख़तरा बना हुआ है. इस बांध के टूटने से बड़ी संख्या में लोगों को विस्थापित होना पड़ सकता है.

सैकड़ों गांवों में बाढ़ का पानी घुसने के बाद अधिकारियों ने सिंधु नदी के आस-पास के इलाक़े से पांच लाख से अधिक लोगों को सुरक्षित स्थानों पर भेज दिया है.

इस इलाक़े में पिछले 80 साल में आई अब तक की सबसे भयंकर बाढ़ में कम से कम एक हजार छह सौ लोगों की मौत हो गई है और एक करोड़ 20 लाख से अधिक लोगों को विस्थापित होना पड़ा है.

बीबीसी संवाददाता ओरला ग्यूरिन का कहना है कि जिस इलाक़े में गुदू बैराज स्थित है, अगर वहां बाढ़ का पानी घुस जाता है, तो कंडखोट और काश्मोर नाम के क़स्बे बह जाएंगे.

ग्यूरिन के मुताबिक बाढ़ का ख़तरा पाकिस्तान की सबसे बड़ी गैस फील्ड परियोजना क़ादिरपुर पर भी मंडरा रहा है.

पाकिस्तान के मौसम विभाग ने चेतावनी दी है कि आने वाले दो दिनों में सिंध प्रांत में अभी और बारिश हो सकती है.

मदद की अपील

प्रधानमंत्री युसूफ़ रज़ा गिलानी ने इस भीषण आपदा में अंतरराष्ट्रीय समुदाय से मदद की गुहार की है. उन्होंने कहा, "अंतरराष्ट्रीय समुदाय से मैं कहना चाहता हूं कि बाढ़ प्रभावित लोगों की पीड़ा दूर करने में वे पाकिस्तान की मदद करें."

उन्होंने कहा कि आगामी दो दिन हमारे लिए काफ़ी अहम हैं और लोगों का बचाव और राहत कार्य हमारी शीर्ष प्राथमिकता होगी. इंजीनियरों ने इस बात की भी चेतावनी दी है कि तरबला और मंगला बांध में पानी का स्तर ख़तरे के निशान को पार कर गया है.

अधिकारियों का कहना है कि इस तरह की चेतावनी के बाद भी कई लोगों ने अपनी जमीन, फ़सल और घरों को छोड़कर जाने से मना कर दिया है.

संबंधित समाचार