बाढ़: दो अरब डॉलर मदद की अपील

पाकिस्तान में बाढ़
Image caption पाकिस्तान का पाँचवाँ हिस्सा बाढ़ के पानी में डूबा हुआ है

संयु्क्त राष्ट्र ने पाकिस्तान के बाढ़ पीड़ितों की सहायता के लिए दो अरब डॉलर से ज़्यादा की मदद की अपील जारी की है.

संयुक्त राष्ट्र के अधिकारियों का कहना है कि सहायता के रूप में जो राशि मांगी जा रही है उससे इस त्रासदी का अंदाज़ा हो सकता है.

उनका कहना है कि इस बाढ़ से दो करोड़ से अधिक लोग प्रभावित हुए हैं.

ये पैसा साल भर में लगभग एक करोड़ चालीस लाख लोगों की मदद करने के लिए इस्तेमाल किया जाएगा.

संयुक्त राष्ट्र का लक्ष्य है बाढ़ पीडि़तों की मदद के लिए काम कर रही उनकी 15 संस्थाओं की योजनाओं में आर्थिक मदद देना.

इसके अलावा सौ से भी ज़्यादा उन एजेंसियों की मदद करना जो राहत काम में लगी हैं.

संयुक्त राष्ट्र के अधिकारियों ने बताया है कि उन्होंने पहले जब आर्थिक मदद की अपील की थी तब क़रीब 50 करोड़ डॉलर इकट्ठा हुए थे. यानी अब एक अरब 60 करोड़ डॉलर धनराशि की और ज़रूरत है.

चुनौती

इतना पैसा जुटाना बहुत बड़ा काम है जिसे करने के लिए काफ़ी परिश्रम करना होगा.

अधिकारियों ने कहा कि पाकिस्तान बाढ़ में लाखों लोगों ने अपना सब कुछ खो दिया है. मूलभूत सुविधाओं को भारी नुकसान हुआ है और ये भी आशंका है कि पाकिस्तान का विकास कई सालों तक नहीं हो पाएगा.

हालांकि मदद काफ़ी मिल रही है लेकिन उसकी रफ़्तार अब धीमी हो चुकी है. इसका कारण ये हो सकता है कि पाकिस्तान में संकट की ये स्थिति इतने लंबे समय से बनी हुई है कि मिल रही सहायता को कायम रखना मुश्किल हो गया है.

संयुक्त राष्ट्र के अधिकारी कहते हैं कि पाकिस्तान की ज़रूरतों को अंतरराष्ट्रीय कार्यसूची में बनाए रखने के लिए उन्हें और भी ज़्यादा मेहनत करनी होगी क्योंकि अब तक हुआ नुक़सान पाकिस्तान की कमज़ोर सरकार और नाज़ुक अर्थव्यवस्था को हतोत्साहित करने वाली चुनौती है.

लेकिन पाकिस्तान में अमरीकी राजदूत रिचर्ड हॉलब्रुक ने इस बात पर ज़ोर दिया है कि प्रशासन को और ज़्यादा राजस्व जुटाना होगा क्योंकि सिर्फ़ मिल रही मदद के बूते पाकिस्तान को दोबारा खड़ा नहीं किया जा सकता.

संबंधित समाचार