पाक सरकार की हैक हुई वेबसाइट्स फिर शुरु

  • 8 दिसंबर 2010
Image caption पाकिस्तान के विदेश मंत्रालय की साइट समेत 36 से अधिक सरकारी वेबसाइट्स को हैक किया गया

पाकिस्तान की सरकार के मुताबिक देश की उन 36 से अधिक सरकारी वेबसाईट्स ने फिर से काम करना शुरु कर दिया है जिन को पिछले सप्ताह इंडियन साईबर आर्मी नामक भारतीय हैकरस ने हैक किया था.

पाकिस्तान की संघीय जाँच एजेंसी (एफ़आईए) के वरिष्ठ अधिकारी इनाम ग़नी ने बीबीसी को बताया, "पिछले हफ़्ते इंडियन साईबर आर्मी नामक भारतीय हैकरस ने एक सरकारी कंप्यूटर सर्वर पर हमला किया था और 36 से अधिक सरकारी वेबसाईट्स को हैक कर लिया था."

उनका कहना था, "भारतीय हैकरस ने सरकारी वेबसाईट्स को हैक करने के बाद एक संदेश छोड़ा कि वे इस से भी ज़्यादा नुक़सान पहुँचा सकते हैं."

इनाम ग़नी के अनुसार भारतीय हैकरस के हमले के बाद पाकिस्तान सरकार ने सरकारी वेबसाईट्स की सुरक्षा बढ़ाएगी और ऐसा दोबारा न हो, इस ओर उचित क़दम उठाएगी.

उन्होंने बताया कि संघीय जाँच एजेंसी ने पुलिस की मदद से रावलपिंडी से सटे एक इलाक़े से राष्ट्रपति आसिफ़ अली ज़रदारी की वेबसाईट को हैक करने के आरोप में एक व्यक्ति मोहम्मद शहबाज़ को गिरफ़्तार किया है.

ग़ौरतलब है कि पिछले सप्ताह मुंबई हमलों के दो साल पूरे होने पर इंडियन साईबर आर्मी ने पाकिस्तान सरकार की जिन 36 से अधिक वेबसाईट्स को हैक किया था उनमें विदेश मंत्रालय, पाकिस्तानी नौसेना, वित्त मंत्रालय और सिंध के मुख्यमंत्री की वेबसाईट्स शामिल हैं.

दूसरी ओर इस प्रकार के साईबर हमलों से बचने के लिए सूचना तकनीकी (आईटी) क्षेत्र की एक पाकिस्तानी कंपनी ट्रॉंचूलाज़ ने एक साईबर कक्ष की स्थापना की है जो 24 घंटे काम करता है.

ट्रॉंचूलाज़ के प्रमुख ज़ुबैर अहमद ने बताया, “भारतीय हैकरस के हमले के बाद हमने एक कक्ष बनाया है और हम ने इस सिलसिले में सरकार से भी संपर्क भी किया है. इस दिशा में काम करने के लिए सरकार की मदद ज़रूरी है.”

वेबसाईट्स की सुरक्षा पर बात करते हुए उन्होंने कहा कि सरकार इस ओर ध्यान नहीं दे रही है और उसे अपनी वेबसाईट्स को सुरक्षित करने के लिए उचित क़दम उठाने चाहिए.

संबंधित समाचार