कौन थे सलमान तासीर

सलमान तासीर

सलमान तासीर खुले विचारों के लिए जाने जाते थे.

पंजाब प्रांत के गवर्नर रहे सलमान तासीर राजनीति में आने से पहले एक सफल प्रबंध सलाहकार भी रहे. उन्होंने ब्रिटेन में चार्टेड अकांउटेंट की पढ़ाई की थी.

राजनीति में कम सफल रहे सलमान तासीर के पाकिस्तान पीपल्स पार्टी के साथ रिश्ते काफी मज़बूत रहे. पिछले एक दशक में सलमान तासीर राजनीति से दूर भी रहे और इस दौरान उन्होंने अपना ध्यान व्यवसाय पर लगाया.

सलमान तासीर ने पाकिस्तान में टेलीकॉम व्यवसाय को स्थापित किया और उसे बुलंदियों तक लेकर गए.जिसके बाद वो पाकिस्तान के रईस लोगों में वो शुमार होने लगे.

मुशर्रफ़ शासन के अंतिम दिनों में वो राजनिति में वापस आए और उन्होंने जरनल मुशर्रफ का राजनैतिक सलाहकार बनने की पेशकश की.

उन्हे राजनीति में बड़ी सफलता तब मिली जब 2007 में उन्हें केन्द्रीय मंत्री बनाया गया और उसके अगले ही साल उन्हें पंजाब प्रांत का गवर्नर बना दिया गया.

मौजूदा सरकार ने भी उन्हें पंजाब के गवर्नर के तौर पर जारी रखा.

एक छात्र के तौर पर उन्होंने पाकिस्तान के पूर्व प्रधानंमत्री जुल्फ़िक़ार अली भुट्टो को जेल भेजे जाने और फांसी दिए जाने का विरोध भी किया. वो पहली बार 1988 में राज्य स्तर पर कुछ समय के लिए चुने गए.

विवादों से दूर ना रहने वाले सलमान तासीर उस वक़्त एक विवाद के केन्द्र में आ गए जब उन्होंने एक पाकिस्तानी इसाई महिला आसिया बीबी की तरफ़दारी की.

आसिया बीबी को ईश-निंदा करने के आरोप में मौत की सज़ा सुनाई गई है.

आसिया बीबी से मिलने के लिए सलमान तासीर जेल भी गए थे.

कहा जाता है कि उनकी मौत का कारण भी ईश निंदा क़ानून के प्रति उनका विरोधी रवैया रहा है.

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.