पाकिस्तान, भारत में भूकंप के झटके

  • 19 जनवरी 2011
पाकिस्तान में भूकंप

पाकिस्तान के तीन प्रांत सिंध, बलूचिस्तान और पंजाब के ज़्यादातर इलाकों और उत्तर भारत के कई राज्यों में रात को लगभग दो बजे भूकंप के तेज़ झटके महसूस किए गए.

अमरीकी भूगर्भ सर्वेक्षण के अनुसार रिक्टर स्केल पर इसकी तीव्रता 7.4 थी और भूकंप का केंद्र दक्षिणी पश्चिमी पाकिस्तान में बलूचिस्तान प्रांत के क़स्बा दालबंदीन से 55 किलोमीटर दूर ईरान और अफ़ग़ानिस्तान सीमा के नज़दीक़ रेगिस्तानी इलाक़े में था.

ये इलाक़ा आबादी से दूर बिल्कुल वीरान है और भूकंपीय ज़ोन में स्थित है.

बताया जाता है कि भूकंप का केंद्र ज़मीन से लगभग 10 किलोमीटर नीचे था.

पाकिस्तान के मौसम विभाग का कहना है कि रिक्टर स्केल पर भूकंप की तीव्रता 7.3 थी.

अभी तक इससे किसी के हताहत होने की ख़बर नहीं है. लेकिन भूकंप के केंद्र के क़रीबी इलाक़ों में कच्चे मकानों के गिरने की ख़बर है.

राजधानी इस्लामाबाद में भी झटके महसूस किए गए और घबराहट में लोग अपने अपने घरों से बाहर निकल आए.

पाकिस्तान के मौसम विभाग के प्रमुख मोहम्मद रियाज़ के अनुसार भूकंप का क्षेत्र बहुत ज़्यादा था और केंद्र से दूरी के साथ साथ उसकी तीव्रता में कमी रिकार्ड की गई है.

उत्तर भारत में झटके

पाकिस्तान में भूकंप के झटके का असर उत्तर भारत में भी देखा गया.

दिल्ली, नोएडा, गाज़ियाबाद, गुड़गांव और फ़रीदाबाद जैसे शहरों में करीब एक मिनट तक महसूस किए गए तेज़ झटके से घबराये लोग अपने घरों से बाहर निकल आए.

इसके कारण घर की खिड़कियों के शीशे और पंखे हिलने लगे. अब तक जानमाल के नुकसान की कहीं से कोई ख़बर नहीं मिली है.

जिस समय भूकंप आया उस समय भारत और दक्षिण अफ़्रीक़ा का वन डे मैच रोमांचक दौर में था.

ज्यादातर लोग टीवी से चिपके थे. आशीष नेहरा ने जैसे ही विजयी शॉट लगाया उसी समय झटके आने लगे. पहले तो लोग कुछ समझ नहीं पाए, लेकिन थोड़ी ही देर बाद भूकंप का अहसास होने के बाद लोग घरों से बाहर निकल आए.

इससे पहले अक्तूबर, 2005 में पाकिस्तान के उत्तरी इलाक़े और भारत प्रशासित कश्मीर में आए भूकंप में लगभग 73 हजार लोग मारे गए थे.

संबंधित समाचार