अमरीकी नागरिक की याचिका रद्द

  • 28 फरवरी 2011
मार्क हेवन इमेज कॉपीरइट BBC World Service
Image caption मार्क हेवन को तीन दिन पहले पेशावर में गिरफ़्तार किया गया था.

पाकिस्तान की एक अदालत ने पेशावर में गिरफ़्तार अमरीकी नागरिक मार्क हेवन की ज़मानत याचिका ख़ारिज कर दी है.

अमरीकी नागरिक मार्क हेवन को तीन दिन पहले पेशावर में गिरफ़्तार किया गया था और उन पर आरोप है कि वे अवैध रुप से पाकिस्तान में रह रहे हैं.

मार्क हेवन के वकील फ़ख़र आलम ने बीबीसी को बताया कि उनके मुव्वकिल ने अपनी ज़मानत के लिए अदालत में याचिका दायर की थी ताकि वे क़ानूनी कार्रवाई को पूरा कर सकें.

जज क़ुदरतुल्लाह मरवत ने अभियुक्त के वकील को कहा कि मार्क हेवन को पता था कि उन के पाकिस्तानी वीज़ा की अवधि समाप्त हो चुकी है और वे अवैध रुप से रह रहे हैं.

ग़ौरतलब है कि अमरीकी नागरिक मार्क हेवन को 'फॉरन एक्ट' क़ानून के तहत गिरफ़्तार किया गया था और पुलिस ने उन्हें अदालत में पेश किया था. इसके बाद उन्हें 14 दिनों की न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया था.

मार्क हेवन के वकील फ़ख़र आलम के अनुसार उनका मुव्वकिल 2009 में पाकिस्तान आया था और उनके वीज़ा की अवधि 23 अक्तूबर 2010 को ख़त्म हो चुकी थी जिस के बाद उन्होंने याचिका दी थी.

अमरीकी नागरिक मार्क हेवन पेशावर में एक सिक्योरिटी कंपनी चला रहे थे और ख़बरों के अनुसार उन्होंने अपनी कंपनी में काम करने वाली एक पाकिस्तानी महिला से शादी कर ली थी.

पेशावर से छपने वाले समाचार पत्रों के अनुसार पुलिस ने इस मामले में जाँच का दायरा बढ़ा दिया है लेकिन आधिकारिक तौर पर इस की पुष्टि नहीं हो सकी है.

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार