पाक खदान में 21 मरे, 30 फँसे

बलूचिस्तान कोयला खदान
Image caption बलूचिस्तान पाकिस्तान का खनिज संपदा संपन्न प्रदेश है

पाकिस्तान में अधिकारियों ने बताया है कि बलूचिस्तान सूबे में एक कोयला खदान में हुए कई धमाकों के कारण मरने वालों की संख्या 21 हो गई है जबकि 30 अन्य अब भी खदान में फँसे हुए हैं.

राहतकर्मी खदान में फँसे लोगों तक पहुँचने की कोशिश में जुटे हुए हैं.

बलूचिस्तान की प्रांतीय सरकार के एक मंत्री मुश्ताक़ रईसानी ने बीबीसी को बताया है कि खदान में फँसे खनिकों को बचाने की संभावना घटती जा रही है क्योंकि वहाँ ऑक्सीजन की ख़ासी कमी हो गई है.

रविवार को इस कोयली की खदान में मीथेन गैस के कारण सिलसिलेवार धमाके हुए थे और रविवार को शुरुआती रिपोर्टों में कहा गया था कि पाँच लोग मारे गए हैं और 40 खदान में फँसे हुए हैं.

खदान इंस्पेक्टर इफ़्तिख़ार अहमद का कहना था, "फँसे हुए लोगों में से जितने लोगों को बचाया जा सके, हम उन्हें बचाने की कोशिश कर रहे हैं लेकिन फँसे हुए लोगों को जीवित बचा पाचा मुश्किल है."

बलूचिस्तान के सोरांग ज़िले में स्थित ये खदान पाकिस्तान खनिज विकास निगम की सम्पति है जिसने उसने ठेके पर दिया हुआ है. बलूजिस्तान में ख़ासी खनिज संपदा है लेकिन वहाँ खदान की हालत ख़राब बताई जाती है.

संबंधित समाचार