भारत-पाक सेमीफ़ाइनल पर पाक मीडिया

  • 29 मार्च 2011
पाकिस्तानी क्रिकेट टीम इमेज कॉपीरइट BBC World Service

पाकिस्तानी मीडिया में आजकल क्रिकेट का बुख़ार सर चढ़ कर बोल रहा है और उस की वजह भारत और पाकिस्तान के बीच विश्व कप का सेमीफ़ाइनल है.

अधिकतर टीवी चैनल पिछले दो दिनों से लगातार क्रिकेट की ख़बरे चला रहे हैं और आतंकवाद और आतंरिक राजनीतिक से जुड़ी ख़बरें ग़ायब ही हो गई हैं.

निजी टीवी चैनलों के मुताबिक गत रात प्रधानमंत्री यूसुफ़ रज़ा गिलानी ने पाकिस्तानी टीम के कप्तान शाहिद अफ़रीदी को टेलीफ़ोन किया और उन्हें भारत के साथ कड़ा मुक़ाबला करने के लिए कहा.

गृहमंत्री रहमान मलिक भी इस से पीछे नहीं हटना चाहते थे उन्होंने भी शाहिद अफ़रीदी से फ़ोन पर बात की. सोमवार को रहमान मलिक का बयान आया था कि उन्होंने पाकिस्तानी खिलाड़ियों को चेतवनी दी है कि वह सेमीफ़ाइनल में सट्टेबाज़ी से बाज़ आएँ.

हलांकि रहमान मलिक ने सोमवार को देर रात सोशल नेटवर्किंग वेबसाइट ट्विटर पर संदेश छोड़ा कि उन के बयान को मीडिया ने ग़लत ढंग से पेश किया है और उन्होंने कोई चेतावनी नहीं दी थी बल्कि खिलाड़ियों को सलाह दी थी कि सट्टेबाज़ सतर्क हैं इसलिए उससे बचें.

जिओ न्यूज़ के अनुसार पाकिस्तानी क्रिकेट टीम के कप्तान शाहिद अफ़रीदी ने संकेत दिए हैं कि भारत के साथ हो रहे सेमीफ़ाइनल में तेज़ गेंदबाज़ शोएब अख़तर को खिलाने के संभावना है.

भारत के साथ हो रहे सेमीफ़ाइनल में खिलाड़ियों का हौसला बढ़ाने केलिए टीवी चैनलों और अख़बारों में विभिन्न राजनेता और सांसद बयान भी दे रहे हैं.

पंजाब के मुख्यमंत्री शहबाज़ शरीफ़ ने खिलाड़ियों ने वादा किया है कि भारत के ख़िलाफ़ सेमीफ़ाइनल में जीत पर हर खिलाड़ी को 25 एकड़ ज़मीन दी जाएगी.

अधिकतर राजनैतिक दल भारत और पाकिस्तान के बीच क्रिकेट कूटनीति का भी समर्थन कर रहे हैं. विभिन्न सांसदों ने दोनों देशों को सलाह दी है कि क्रिकेट ने दोनों देशों को करीब लाने का अवसर प्रदान किया और वह इस मौक़े को हाथ से न जाने दें.

विपक्षी पार्टी मुस्लिम लीग क्यू की वरिष्ठ नेता कशमाला तारिक़ ने एक टीवी चैनल ने बात करते हुए कहा कि वह भारतीय पंजाब के मुख्यमंत्री के न्योते पर मैच देखने मोहाली जा रही हैं और वे चाहती हैं कि वह मैच पाकिस्तान जीत जाए.

भारत और पाकिस्तान के बीच सेमीफ़ाइनल को लेकर मीडिया में लगातार आ रही ख़बरों का एक वर्ग विरोध कर रहा है. निजी चैनल डॉन न्यूज़ के अनुसार मीडिया में जिस तरह से खिलाड़ियों और क्रिकेट के बारे में ख़बरें दी जा रही हैं उस से खिलाड़ी तनाव का शिकार हो रहे हैं.

चैनल का कहना है कि प्रधानमंत्री यूसुफ़ रज़ा गिलानी, गृहमंत्री रहमान और प्रमुख विपक्षी नेता नवाज़ शरीफ़ को शाहिद अफ़रीदी से टोलीफ़ोन पर बात नहीं करनी चाहिए थी क्योंकि इस तरह की बातों से टीम काफ़ी तनाव में आ जाती है.

चैनल खिलाड़ियों को मशवरे दे रहा कि वह किसी से टेलीफ़ोन पर बात न करें और न ही टीवी चैनल देखें और पूरी दुनिया से अपना संपर्क मैच तक ख़त्म कर दें.

संबंधित समाचार