पाक में ड्रोन हमला, 25 की मौत

  • 22 अप्रैल 2011
ड्रोन इमेज कॉपीरइट AP
Image caption पाकिस्तान में हो रहे ड्रोन हमले वहां की हुकुमत के लिए भी मुश्किलें खड़ी कर रहा है.

पाकिस्तान के उत्तरी वज़ीरिस्तान में चालक रहित अमरीकी विमान यानी ड्रोन हमले में 25 लोग मारे गए है.

स्थानीय प्रशासन के अधिकारियों ने बीबीसी संवाददाता दिलावर ख़ान वज़ीर को बताया कि मारे जानेवालों में पाँच बच्चे और चार औरतें भी शामिल हैं.

अधिकारियों का कहना है ड्रोन विमानों ने स्पिनवाम के एक परिसर को निशाना बनाया और चार मिसाइल फ़ायर किए.

समाचार एजेंसी एपी ने ख़ुफ़िया अधिकारियों के हवाले से कहा है कि शुक्रवार सुबह मिसाइलों से हुए इस हमले में कई लोग घायल भी हुए हैं.

ड्रोन ने जिस घर को निशाना बनाया है उसे तालिबान नेता हाफ़िज़ गुल बहादुर का ठिकाना बताया जा रहा है.

ये हमला एक ऐसे वक़्त में हुआ है जब पाकिस्तान और अमरीका के रिश्ते तनावपूर्ण दौर से गुज़र रहे हैं.

गुस्सा

पाकिस्तान के सेना प्रमुख अशफ़ाक़ कयानी ने ऐसे हमलों के लिए अमरीका की निंदा की थी और कहा था कि ड्रोन हमले का प्रतिकुल असर पड़ रहा है.

पाकिस्तान में हत्या के आरोप में गिरफ़्तार किए गए सीआईए एजेंट रेमंड डेविस और उसकी रिहाई को लेकर अमरीका ने जो दबाव बनाया था वो भी दोनों देशों के रिश्तों में आ गई कड़वाहट की वजह है.

अमरीका का कहना था कि डेविस को राजनयिक संरक्षण प्राप्त है इसीलिए उन्हें गिरफ़्तार नहीं किया जा सकता.

हालांकि ताज़ा ड्रोन हमले में मारे जाने वालों की शिनाख़्त नहीं हो पाई है लेकिन उत्तरी वज़ीरिस्तान को इस्लामी चरमपंथियों का गढ़ बताया जाता रहा है और अफ़गानिस्तान में मौज़ूद पश्चिमी देशों की सेनाओं का आरोप है कि ये लोग लगातार उन पर हमले करते रहते हैं.

पिछले माह पाकिस्तान के इसी इलाक़े में हुए एक ड्रोन हमले में चालीस आम नागिरकों की मौत हो गई थी.

इस तरह की घटनाओं से इलाक़े के लोगों में काफ़ी गुस्सा है.

पाकिस्तान की विपक्षी पार्टी मुस्लिम लीग क्यू के क़बायली नेताओं ने चंद दिनों पहले ही चेतावनी दी थी कि अगर क़बायली इलाक़ों में ड्रोन हमले नही रुके तो वे नैटो सेना के लिए अफ़ग़ानिस्तान जा रहे सामान की आपूर्ति रोक देंगे.

वरिष्ठ क़बायली नेता अजमल ख़ान वज़ीर का दावा है कि इस तरह के ज़्यादातर हमलों का शिकार आम नागरिक बनते हैं.

मौतें

पाकिस्तान में पिछल कुछ सालों में किए गए ड्रोन हमलों में सैकड़ों लोग मारे गए हैं.

इस तरह ड्रोन हमलों के लिए अमरीका को ज़िम्मेदार माना जाता है. हालांकि अमरीका इस तरह के हमलों के लिए ज़िम्मेदारी स्वीकार नहीं करता लेकिन इस इलाक़े में अमरीकी सेना के अलावा और किसी के पास ये क्षमता भी नहीं है.

एक आंकड़े के मुताबिक सिर्फ राष्ट्रपति ओबामा के कार्यकाल में ही अबतक 700 से अधिक लोग मारे गए हैं.

पूर्व राष्ट्रपति जॉर्ज बुश के कार्यकाल के दौरान ये आंकड़ा 200 से कुछ कम था.

संबंधित समाचार