लादेन के बारे में जानकारी न होने पर शर्मिंदा आईएसआई

इमेज कॉपीरइट Other
Image caption ऐबटाबाद में ओसामा बिन लादेन के ठिकाने की तस्वीर. ये तस्वीर अमरीकी नेटवर्क एबीसी के सौजन्य से है.

पाकिस्तान की खुफ़िया एजेंसी आईएसआई ने कहा है कि ओसामा की पाकिस्तान में मौजूदगी के बारे में उसे जानकारी नहीं होने को लेकर वो बहुत शर्मिंदा हैं. इस बीच ऐबटाबाद में लादेन को मारने के लिए किए गए अमरीकी ऑपरेशन के बारे में कुछ ताज़ा जानकारियां सामने आ रही हैं.

आईएसआई के एक अधिकारी ने कहा है कि अमरीकी कार्रवाई के वक़्त ऐबटाबाद के उस कम्पाउंड में 17 से 18 व्यक्ति मौजूद थे.

अधिकारी ने कहा कि अमरीकी सैनिक ओसामा बिन लादेन के शव के अलावा एक अन्य व्यक्ति को भी साथ ले गए जो उस वक़्त जीवित था.

इसके अलावा चार और शव कम्पाउंड में छोड़ दिए गए थे.

अमरीकी कार्रवाई में बचने वालों में ओसामा बिन लादेन की पत्नी और बेटी शामिल हैं. इनके अलावा उस घर में मौजूद आठ अन्य बच्चे भी सुरक्षित हैं.

ओसामा बिन लादेन की सबसे छोटी बेटी ने इस बात की पुष्टि की है कि उनके पिता को गोली मारी गई थी.

आईएसआई 'शर्मिंदा'

आईएसआई ने कहा है कि वो ओसामा बिन लादेन के ठिकाने के बारे में जानकारी के विषय में अपने ख़ुफ़िया तंत्र के विफल होने पर शर्मिंदा है.

एक आईएसआई अधिकारी ने कहा है कि जिस घर में ओसामा बिन लादेन को मारा गया उसपर वर्ष 2003 में एक छापा मारा गया था. उस समय अधिकारियों को संदेह था कि वहां अल क़ायदा का कोई अन्य सदस्य रह रहा है.

लेकिन अधिकारी के अनुसार उसके बाद वो घर कभी उनकी निगरानी में नहीं रहा.

इस बीच पाकिस्तान पर इस बात के लिए दबाव बढ़ रहा है कि उसे ये कैसे नहीं पता था कि ओसामा बिन लादेन ऐबटाबाद में छिपा है.

बीबीसी से बातचीत में ब्रिटेन के प्रधानमंत्री डेविड कैमरन ने कहा कि इस्लामाबाद को कई सवालों के जवाब देने हैं.

पिछले साल भारत के दौरे पर आए कैमरन ने पाकिस्तान में कुछ तत्त्वों आतंकवाद का निर्यात करने का आरोप भी लगाया था.

उधर वॉशिंगटन में अमरीकी राष्ट्रपति के आतंकवाद-निरोधक सलाहकार जॉन ब्रैनन ने कहा है कि ये संभव नहीं कि ओसामा बिन लादेन इतने समय तक बिना किसी स्थानीय सहायता के पाकिस्तान में रह रहा हो.

इमेज कॉपीरइट BBC World Service
Image caption इसी अहाते में लादेन के ख़िलाफ़ कार्रवाई हुई थी.

संबंधित समाचार