'आईएसआई ने संरक्षण नहीं दिया ओसामा को'

सलमान बशीर इमेज कॉपीरइट AFP
Image caption सलमान बशीर ने पाकिस्तान और अमरीका के संबंधों का बचाव किया है

पाकिस्तान के विदेश सचिव सलमान बशीर ने कहा है कि अगर कोई देश दोबारा उसकी ज़मीन पर कोई सैन्य कार्रवाई करने की कोशिश करेगा तो पाकिस्तानी सेना उसका माकूल जवाब देगी.

ऐबटाबाद में हुए अमरीकी अभियान के तीन दिन बाद सलमान बशीर ने गुरुवार को इस्लामबाद में पत्रकार वार्ता बुलाई और कई सवालों के जवाब दिए.

पाकिस्तानी विदेश सचिव ने कहा कि अपनी रक्षा करने की पाकिस्तान की क्षमता पर किसी को शक नहीं करना चाहिए.

उनका कहना था, “पाकिस्तान के लोगों और नेताओं को अपना सम्मान बहुत प्यारा है. हम अपनी संप्रभुता को बरकरार रखना चाहते हैं. ऐबटाबाद में जो हुआ वो गुप्त अभियान था. पाकिस्तान से सलाह नहीं ली गई थी. लेकिन जैसे ही पाकिस्तानी अधिकारियों को पता चला उसी समय पाकिस्तानी वायुसेना हरकत में आ गई थी. पाकिस्तान की क्षमता पर संदेह नहीं होना चाहिए.”

सलमान बशीर ने बिना किसी देश का नाम लिए कहा, “कुछ देशों के सैन्य अधिकारी दावा कर रहे हैं कि ऐबटाबाद जैसी कार्रवाई दोबारा की जा सकती है. अगर कोई ऐसा करता है तो उसके भंयकर परिणाम हो सकते हैं.”

'आईएसआई पर ग़लत आरोप'

पाकिस्तानी खुफ़िया एजेंसी आईएसआई और अल क़ायदा के बीच गठजोड़ की ख़बरों को सलमान बशीर ने ग़लत बताया और कहा, “ये कहना आसान है कि आईएसआई या सरकार के कुछ लोग अल क़ायदा से मिले हुए हैं. ये ग़लत धारणा है. ये आरोप उन सभी क़दमों और कामों को झुठलाता है जो आईएसआई करने की कोशिश कर रही है. ये बात ग़लत है कि ओसामा बिन लादेन को आईएसआई के लोग संरक्षण दे रहे थे.”

उन्होंने अमरीकी सूची का ज़िक्र करते हुए कहा कि दुनिया भर में जिन चरमपंथियों की तलाश थी उन्हें पकड़ने में अमरीका की सहायता आईएसआई ने की है.

उन्होंने कहा कि ऐबटाबाद के बारे में सुराग पाकिस्तानी सहयोग से ही मिला था.

सलमान बशीर ने कहा कि अमरीकी कार्रवाई के बाद किसी भी पाकिस्तानी को हताश होने की ज़रूरत नहीं है और पाकिस्तान को अपनी उपलब्धियों, सुरक्षा क्षमताओं और अपनी सेना पर नाज़ है.

अमरीकी के साथ पाकिस्तान के सहयोग पर उन्होंने कहा कि दोनों देशों के बीच अच्छे संबंध रहे हैं और ये सही दिशा में आगे बढ़ रहा है.

संबंधित समाचार