आईएसआई प्रमुख पर दबाव नहीं - सेना

जनरल शुज़ा पाशा
Image caption आईएसआई प्रमुख लेफ़्टिनेंट जनरल शुजा पाशा के बारे में मीडिया में रिपोर्टें आई थीं

पाकिस्तानी सेना ने इन ख़बरों का खंडन किया है कि ख़ुफ़िया एजेंसी आईएसआई के प्रमुख लेफ़्टिनेंट जनरल अहमद शुजा पाशा पर लादेन मामले को लेकर इस्तीफ़ा देने का दबाव है.

पाकिस्तानी सेना ने बीबीसी के साथ एक बातचीत में इन रिपोर्टों का भी खंडन किया है कि जनरल शुजा पाशा ओसामा बिन लादेन की पाकिस्तान में मौजूदगी के बारे में अमरीकी अधिकारियों को स्पष्टीकरण देने के लिए अमरीका की यात्रा कर रहे हैं.

सेना ने आईएसआई प्रमुख के बारे में ये टिप्पणियाँ इस संबंध में मीडिया में छपी कुछ रिपोर्टों के बाद की हैं जिनमें कहा गया था कि जनरल शुजा पर इस्तीफ़ा दे सकते हैं और वे अमरीकी अधिकारियों को सफ़ाई देने अमरीका जा रहे हैं.

अल क़ायदा प्रमुख ओसामा बिन लादेन को अमरीका के विशेष सुरक्षाबलों ने दो मई को पाकिस्तान के ऐबटाबाद क्षेत्र में धावा बोलकर मार डाला था.

ऐबटाबाद इस्लामाबाद से केवल 120 किलोमीटर दूर है और ओसामा बिन लादेन जिस घर में रह रहे थे वो जगह पाकिस्तान के प्रतिष्ठित पाकिस्तान सैन्य अकादमी के बिल्कुल पास है.

ओसामा के पाकिस्तान में होने को लेकर पाकिस्तान सरकार, पाकिस्तानी सेना और पाकिस्तानी ख़ुफ़िया एजेंसी को कई मुश्किल सवालों से जूझना पड़ रहा है.

चूक

पाकिस्तानी सेना और आईएसआई दोनों ने माना है कि उनसे इस बारे में चूक हुई है.

आईएसआई के एक अधिकारी ने अमरीकी कार्रवाई के अगले दिन कहा था कि उनका संगठन ओसामा की जानकारी नहीं होने को लेकर शर्मिंदा है.

दो दिन बात सेना ने भी खुफ़िया जानकारी ना होने की नाकामी को स्वीकार किया.

पाकिस्तान के सेना प्रमुख जनरल अशफ़ाक़ परवेज़ कयानी की अध्यक्षता में कोर कमांडरों की बैठक के बाद जारी किए गए एक बयान में कहा गया कि ‘सेना पाकिस्तान में लादेन के होने की ख़ुफ़िया जानकारी नहीं होन की ग़लती को स्वीकार करती है’.

बयान में ये भी कहा गया कि इस बारे में जाँच के आदेश जारी कर दिए गए हैं.

सेना की इस बैठक के एक दिन बाद आईएसआई प्रमुख के अमरीका दौरे की ख़बर आई.

मगर बाद में सेना ने स्पष्ट किया कि आईएसआई प्रमुख के अमरीका जाने की ख़बर ग़लत है.

संबंधित समाचार