'कार्रवाई की ख़बर मिली थी मुझे'

रहमान मलिक
Image caption रहमान मलिक पाकिस्तान के पहले व्यक्ति है जिन्होंने हमले की जानकारी का दावा किया है.

पाकिस्तान के गृह मंत्री रहमान मलिक ने कहा है कि उन्हें ओसामा बिन लादेन के ऐबटाबाद स्थित घर पर अमरीकी हमले की ख़बर कार्रवाई शुरु होने के पंद्रह मिनट बाद ही लग गई थी.

पाकिस्तान के गृह मंत्री ने ये बात अल-अरबिया न्यूज़ चैनेल को एक इंटरव्यू में कही है.

चरमपंथी संगठन अल-क़ायदा के नेता ओसामा बिन लादेन को अमरीकी सेना के एक दस्ते ने उनके ऐबटाबाद स्थित घर पर हमला करके मार गिराया था.

बाद में अमरीका की ख़ुफ़िया एजेंसी सीआईए के प्रमुख लियोन पनेटा ने कहा था कि अमरीका ने पाकिस्तान को इस ऑपरेशन के बारे में नहीं बताया था क्योंकि उसे ख़तरा था कि हमले की बात लीक हो जाएगी.

बेनज़ीर की हत्या

पाकिस्तान में लोग अमरीकी सेना की कार्रवाई को अपनी संप्रभुता का उल्लंघन मान रहे हैं क्योंकि अमरीका ने ये हमला पाकिस्तान के इजाज़त के बग़ैर किया था.

अमरीका दूसरी ओर इस बात को लेकर सवाल उठा रहा है कि आख़िर ओसामा बिना सहयोग के कैसे इतने लंबे समय से ऐबटाबाद में रह रहे थे जबकि उनका घर सेना के एक केंद्र से कुछ ही दूरी पर था?

अल-अरबिया को दिए गए साक्षात्कार में रहमान मलिक ने ओसामा को शरण देने की बात से भी साफ़ मना किया है.

उन्होंने कहा, "इस बात का कोई आधार ही नहीं. हम उस व्यक्ति को कैसे शरण दे सकते हैं जिसका हाथ पूर्व प्रधानमंत्री बेनज़ीर भुट्टो की हत्या में था?"

ये पहली बार है जब ओसामा बिन लादेन का नाम बेनज़ीर भुट्टो की हत्या के सिलसिले में लिया गया है. इस मामले में पाकिस्तान सरकार की चल रही एक जाँच अभी जारी है.

रहमान मलिक ने कहा कि उनकी सरकार ने ओसामा हमले पर अपनी एक जाँच शुरू कर दी है.

इमेज कॉपीरइट AP
Image caption ओसामा की पाकिस्तान में मौजूदगी को लेकर अमरीका कई सवाल खडे़ कर रहा है.

पाकिस्तानी अधिकारियों को सूचना

इस बीच अमरीकी अख़बार द वाल स्ट्रीट जर्नल मे छपे एक लेख में इस बात की विस्तृत जानकारी दी गई है कि पाकिस्तान के उच्चाधिकारियों को इस हमले की ख़बर कैसे मिली.

अख़बार के मुताबिक़ अमरीकी सेनाओं के संयुक्त कमान के अध्यक्ष माईक मुलेन ने पाकिस्तानी सेना प्रमुख अशफ़ाक़ कयानी को ओसामा के मौत के बारे में सूचित किया था.

अख़बार के मुताबिक़ जनरल कयानी इस बात से काफ़ी नाराज़ हुए. हालांकि अमरीकी अधिकारियों का दावा है कि बातचीत सौहार्दपूर्ण माहौल में हुई थी.

अख़बार का कहना है कि ओसामा की मौत की ख़बर राष्ट्रपति बराक ओबामा ने ख़ुद इसकी सूचना पाकिस्तानी राष्ट्रपति आसिफ़ अली ज़रदारी को दी.

समाचारपत्र के मुताबिक़ ख़बर सुनकर ज़रदारी "कुछ क्षणों के लिए स्तब्ध से हो गए ओर फिर ओबामा से कहा: मुबारक हो राष्ट्रपति महोदय."

संबंधित समाचार