'पूछताछ केलिए अमरीका ने नहीं कहा'

  • 10 मई 2011
सलमान इमेज कॉपीरइट AFP Getty

पाकिस्तान के विदेश सचिव सलमान बशीर ने कहा है कि ऐबटाबाद में अमरिकी कार्रवाई में मारे गए अल क़ायदा के प्रमुख ओसामा बिन लादेन की विधवाओं से पूछताछ के लिए अमरीका ने कोई संपर्क नहीं किया है.

इस से पहले एक अमरीकी अधिकारी ने कहा था कि पाकिस्तान ने अमरीका को ओसामा बिन लादेन की तीन विधवाओं से पूछताछ करने की अनुमति दे दी है.

अधिकारी ने बताया था कि अमरीकी अधिकारी ओसामा बिन लादने की तीनों पत्नियों से सीधी पूछताछ करेंगे.

सलमान बशीर ने संसद के बाहर पत्रकारों से बातचीत करते हुए कहा, “अमरीका ने ओसामा बिन लादेन की विधवाओं से पूछताछ के लिए औपचारिक रुप से कोई अनुरोध नहीं किया है.”

'सीधे संपर्क करें'

उन्होंने आगे कहा, “मैंने भी मीडिया में यह ख़बरें देखी हैं और अगर इस संबंध में अमरीका पाकिस्तान से सहयोग चाहता है तो वह मीडिया के माध्यम से संदेश देने के बजाए सीधे तौर पर सरकार से संपर्क करे.”

एक सवाल के जवाब में उन्होंने कहा कि अल क़ायदा की जड़ें पूरी दुनिया फ़ैली हुई हैं और इसे ख़त्म करने केलिए सभी देशों को मिल कर काम करना होगा.

उन के अनुसार आतंकवाद के ख़िलाफ़ चल रहा युद्ध पाकिस्तान के अपने हित में है और इस संबंध में अमरीका से संबंध सकरात्मक दिशा में आगे बढ़ रहे हैं.

ग़ौरतलब है कि दो मई को पाकिस्तान के शहर में ऐबटाबाद में हुई अमरीकी सेना की कार्रवाई में ओसामा बिन लादेन की मौत के बाद दोनों देशों के संबंधों में काफ़ी तनाव हो गया है.

अमरीका का कहना है कि उसने इस कार्रवाई के बारे में पाकिस्तान को नहीं बताया था और जानकारी तब दी गई जब कार्रवाई पूरी हो गई.

इसके बाद पाकिस्तान में देश की संप्रभुता को लेकर सवाल उठाए गए थे.

उधर ये सवाल भी पूछे जा रहे हैं कि ओसामा बिन लादेन पाँच साल से इस्लामाबाद से कुछ दूर ऐबटाबाद में रह रहे थे तो इसकी जानकारी आईएसआई को क्यों नहीं मिल सकी.

इमेज कॉपीरइट AP
Image caption अमरीकी सेना ने दो मई को पाकिस्तान में कार्रवई कर ओसामा को मार दिया था.

'अमरीकी दवाब'

जाने-माने विश्लेषक डॉक्टर हसन असकरी मानते हैं कि अगर पाकिस्तान ने ओसामा बिन लादेन की विधवाओं से पूछताछ के लिए अमरीका को अनुमति नहीं दी तो दोनों देशों के संबंध ओर बिगड़ सकते हैं.

उन्होंने कहा कि अमरीका इस संबंध में पाकिस्तान पर दबाव बना रहा है ताकि भविष्य में इस प्रकार के मामलों में सहयोग जारी रहे.

हसन असकरी ने कहा, “अगर पाकिस्तान ने अनुमति दी तो अमरीका ख़ुश हो जाएगा और अगर अनुमति न दी तो आधिकारिक रुप से एक नई शिकायत दर्ज हो जाएगी.”

ग़ौरलतब है कि ऐबटाबाद में अमरीकी सैनिकों ने एक घर पर अभियान कर ओसामा बिन लादेन को मार दिया था और उसके बाद पाकिस्तानी अधिकारियों ने घर में मौजूद ओसामा बिन लादेन की विधवाओं को अपनी हिरासत में ले लिया था.

व्हाइट हाउस की ओर से सोमवार को ही कहा गया था कि अमरीका चाहता है कि वह ओसामा बिन लादेन की पत्नियों से सीधी पूछताछ कर सके.

सीधी पूछताछ को लेकर ये स्थिति इसलिए बनी है क्योंकि ऐबटाबाद में सैन्य कार्रवाई के बाद से अमरीकी प्रशासन और पाकिस्तान, ख़ासकर उसकी ख़ुफ़िया एजेंसी आईएसआई के बीच रिश्तों में तनाव साफ़ दिखाई दे रहा है.

संबंधित समाचार