जल विवाद पर भारत-पाक वार्ता

  • 12 मई 2011
भारत
Image caption दोनों देशों के बीच सचिव स्तर की वार्ता जारी है.

भारत और पाकिस्तान के बीच विवादास्पद वूलर बैराज सहित सभी जल मुद्दों पर सचिव स्तर की बातचीत जारी है.

भारत के जल संसाधन सचिव ध्रुव अजय सिंह अपने आठ सदसीय प्रतिनिधिमंडल के साथ इस वार्ता में शामिल हैं जबकि पाकिस्तान की ओर से पानी और बिजली विभाग के सचिव जावेद इक़बाल भाग ले रहे हैं.

दो दिवसीय इस वार्ता में भारत के जल मामलों के आयुक्त जी रंगानाथन और पाकिस्तान के जल मामलों के अधिकारी शीराज़ जमील मेमन भी शामिल हैं.

भारत और पाकिस्तान के बीच वूलर बैराज के मुद्दे पर इस से पहले उच्चास्तरीय वार्ता के 13 दौर हो चुके हैं लेकिन यह मुद्दा अभी तक बना हुआ है.

ग़ौरतलब है कि भारत ने 1985 में भारत प्रशासित कश्मीर के बारामूला ज़िले में झेलम नदी पर एक परियोजना का निर्माण शुरु किया था.

भारत के मुताबिक यह परियोजना गरमी के मौसम में केवल पानी को आँकने के लिए बनाई जा रही है जिस समय अधिक पानी होता है. भारत इसे तुलबुल नेवीगेशन प्रोजेक्ट कहता है.

लेकिन पाकिस्तान का कहना है कि भारत झेलम नदी पर वूलर के नाम से एक बैराज का निर्माण कर रहा है जिस वह पाकिस्तान का पानी रोकेगा.

पाकिस्तानी सरकार की ओर से आपत्ति और जेहादी गुटों की धमकियों के बाद भारत ने 1987 में इस परियोजना का निर्माण रोक दिया था.

भारतीय जल संसाधन सचिव ध्रुव अजय सिंह बुधवार को अपने प्रतिनिधिमंडल के लाहौर पहुँचा लेकिन उन्होंने पत्रकारों ने बातचीत नहीं की.

'वार्ता सकरात्मक दिशा में'

दिल्ली में पाकिस्तान की उच्चायुक्त शाहिद मलिक भी इस के साथ लाहौर पहुँचे और उन्होंने पत्रकारों से बातचीत करते हुए कहा कि पाकिस्तान चाहता है कि 27 साल पुराने इस मुद्दे का कोई हल सामने आए.

उन्होंने कहा कि भारत के साथ सविच स्तर की बातचीत सकारात्मक दिशा में आगे बढ़ रही है और इस से दोनों देशों के गृह और वणिज्य सचिवों की वार्ताएँ हो चुकी हैं.

इस से पहले पाकिस्तान और भारत में व्यापार से जुड़े मुद्दों को सुलझाने के लिए एक ज्वाइंट वर्किंग ग्रुप बनाने के फ़ैसला लिया गया था.

पिछले महीने दोनों देशों के बीच इस्लामाबाद में हुई दो दिवसीय वार्ता के बाद जारी संयुक्त घोषणा पत्र में द्विपक्षीय व्यापार को बढ़ाने पर सहमति जताते हुए बातचीत की प्रक्रिया को जारी रखने का निर्णय लिया गया था.

संबंधित समाचार