कैमरे वाले मोबाइल फ़ोन पर पाबंदी

मोबाइल फ़ोन इमेज कॉपीरइट Getty
Image caption तोरग़र ज़िले की एक पंचायत ने कैमरे वाले मोबाइल फ़ोन पर पाबंदी लगाई.

पाकिस्तान के ख़ैबर पख़्तूनख़्वाह प्रांत में एक स्थानीय पंचायत ने अपने इलाक़े में कैमरे वाले मोबाइल फ़ोन पर प्रतिबंध लगा दिया है.

तोरग़र ज़िले के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बीबीसी को बताया कि दो दिन पहले मदाख़ेल क़बीले की एक क़बायली पंचायत ने डूबा दोख़ेल और उसके आस पास के इलाक़ों में कैमरा वाले मोबाइल फ़ोन पर पाबंदी लगा दी है.

अब इस इलाक़े में इस फ़रमान का उल्लंघन करने वालों पर 10 हज़ार रुपय का जुर्माना लागू करने का भी फ़ैसला लिया है.

उन्होंने बताया कि कुछ दिन पहले इलाक़े के एक युवा यासीन के मोबाइल पर एक स्थानीय लड़की की तस्वीर देखी गई थी जिसके बाद उनकी हत्या कर दी गई.

स्थानीय लोगों का कहना है कि जब मदाख़ेल क़बीले के लोगों को यासीन के मोबाइल पर लड़की की तस्वीरों के बारे में पता चला तो यासीन उसी दिन कराची भाग गया था.

यासीन का मामला

उन्होंने बताया कि यासीन कुछ दिन पहले ही तोरग़र पहुँचा था और उन्हें पहुँचते की क़त्ल कर दिया गया था.

लोगों के मुताबिक यासीन की हत्या के बाद इलाक़े में तनाव बढ़ गया था जिसके बाद स्थानीय पंचायत ने इलाक़े में कैमरा वाले फ़ोन पर प्रतिबंध लगा दिया.

स्थानीय लोगों का कहना है कि वह पंचायत एक मुस्लिम विद्वान मौलाना एहसानुल्लाह की अध्यक्षता में हुई था.

ग़ौरतलब है कि तोरग़र ख़ैबर पख़्तूनख़्वाह प्रांत का एक दूरस्थ पहाड़ी इलाक़ा है और प्रांतीय सरकार ने पिछले साल ही उसी ज़िला दर्जा दिया था.

ज़िला होने से पहले इस इलाक़े का नाम काला ढाका था जिसके बाद बदल कर पश्तो भाषा का नाम तोरग़र रखा गया था.

संबंधित समाचार