सुरक्षा चौकी पर 100 से अधिक लड़ाकों ने धावा बोला

  • 9 जून 2011
पाक तालिबान
Image caption ओसामा की मौत के बाद पाकिस्तान में तालिबान चरमपंथियों के हमलों में तेज़ी आई है

पाकिस्तान के उत्तर पश्चिमी वज़ीरिस्तान में 100 से ज़्यादा तालिबान चरमपंथियों ने एक सुरक्षा चौकी पर हमला किया है जिसमें कम से कम 12 तालिबान लड़ाके और आठ सैनिक मारे गए हैं.

सौ से अधिक हथियारबंद चरमपंथियों ने रॉकेट और ग्रेनेड का इस्तेमाल करते हुए माकीन क़बायली इलाक़े में सुरक्षा चौकी पर धावा बोल दिया.

दोनों ओर से भीषण गोलीबारी हुई और कई घंटों तक लड़ाई चलती रही.

एक बीबीसी संवाददाता का कहना है कि पाकिस्तान-अफ़ग़ानिस्तान सीमा पर तनाव ख़ासा बढ़ गया है क्योंकि वहाँ इस बारे में अटकलें लगाई जा रही हैं कि पाकिस्तान चरमपंथियों के ख़िलाफ़ बड़ा अभियान शुरु कर सकता है.

ओसामा, कश्मीर की मौत के बाद हमले बढ़े

स्थानीय अधिकारियों के अनुसार रॉकेट और भीषण असलहा-बारूद से लैस चरमपंथियों ने बुधवार को स्थायनीय समयानुसार मध्यरात्री के कुछ ही देर बाद सुरक्षा चौकी पर धावा बोल दिया.

जवाबी कार्रवाई में सुरक्षा बलों ने भी ख़ासी गोलीबारी की है.

उत्तरी वज़ीरिस्तान की सीमा के पास स्थित माकीन नगर से घटनास्थल 12 किलोमीटर पूर्व में स्थित है.

ऐसा पहली बार हुआ है कि तालिबान लड़ाकों ने इतनी ताकत का इस्तेमाल करते हुए भीषण हमला किया है.

महत्वपूर्ण है कि ओसामा बिन लादेन के ख़िलाफ़ ऐबटाबाद की कार्रवाई के बाद दक्षिणी वज़ीरिस्तान में हुए एक अमरीकी ड्रोन हमले में मुंबई हमलों में 'शामिल' और अल-क़ायदा के क़रीबी चरमपंथी नेता इलियास कश्मीरी की मौत हो गई थी.

ओसामा बिन लादेन और इलियास कश्मीरी के मारे जाने के बाद से पाकिस्तान में चरमपंथी हमलों में बढ़ोत्तरी हुई है.

पाकिस्तानी तालिबान ने ऐलान कर रखा है कि वे ओसामा की मौत का बदला लेने के लिए हमले करते रहेंगे.

ग़ौरतलब है कि उत्तर पश्चिमी पाकिस्तान सुरक्षा बलों और चरमपंथियों के बीच संघर्ष का केंद्र बन गया है.

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार