'दो मई के बाद वायुसेना की चौकसी बढ़ी'

जाँच आयोग इमेज कॉपीरइट PID
Image caption सुप्रीम कोर्ट के वरिष्ठ न्यायधीश की अध्यक्षता में आयोग ओसामा की मौत की जाँच कर रहा है.

पाकिस्तानी वायुसेना के वरिष्ठ अधिकारी एयर मार्शल मोहम्मद हसन ने ओसामा की मौत की जाँच कर रहे आयोग को बताया है कि दो मई के बाद वायुसेना ने अपनी पश्चमी सीमाओं पर चौकसी बढ़ा दी है.

इस उच्चस्तरीय आयोग की अध्यक्षता सुप्रीम कोर्ट के वरिष्ठ न्यायधीश जस्टिस जावेद इक़बाल कर रहे हैं जबकि वरिष्ठ सैन्य और प्रशासनिक अधिकारी इसके सदस्य हैं.

इस्लामाबाद में आयोग की बैठक करीब तीन घंटों तक जारी रही. पाकिस्तानी सेना के वरिष्ठ अधिकारी मेजर जनरल अशफ़ाक़ नदीम और वायुसेना के वरिष्ठ अधिकारी एयर मार्शल मोहम्मद हसन आयोग के समक्ष पेश हुए.

ऐयर मार्शल मोहम्मद हसन ने आयोग को बताया कि वायुसेना के रेडार के स्थान के बारे में जानकारी दी और कहा कि दो मई के बाद वायुसेना ने अपनी पश्चिमी सीमाओं पर चौकसी बढ़ा दी है.

'ओसामा की मौत'

ग़ौरतलब है कि दो मई को ऐबटाबाद में अमरीका सैनिकों ने कार्रवाई कर अल क़ायदा के प्रमुख ओसामा बिन लादेन को मार दिया था.

अमरीका ने पाकिस्तान को बिना बताए यह कार्रवाई की थी जिस पर पाकिस्तानी सरकारी ने कड़ी आपत्ति जताई थी.

उस घटना के बाद पाकिस्तानी की ख़ुफ़िया एजेंसी आईएसआई की भूमिका पर कई सवाल उठाए जा रहे थे और उसकी कड़ी आलोचना हो रही थी.

भारी घरेलू और अंतरराष्ट्रीय दबाव के बाद पाकिस्तान के प्रधानमंत्री यूसुफ़ रज़ा गिलानी ने ओसामा बिन लादेन की मौत की जाँच केलिए सुप्रीम कोर्ट के एक वरिष्ठ न्यायधीश की अध्यक्षता में आयोग का गठन किया था.

'ओसामा के परिजन पर रोक'

यह आयोग उन परिस्थितियों की जाँच कर रहा है कि ओसामा बिन लादेन पाकिस्तानी अधिकारियों की जानकारी के बिना कैसे ऐबटाबाद में रह रहे थे.

दूसरा यह कि दो मई को जब अमरीकी सैनिकों ने ऐबटाबाद में कार्रवाई की थी तो पाकिस्तानी अधिकारियों को उसकी जानकारी क्यों नहीं थी.

इसी महीने की पाँच तारीख़ को जाँच आयोग की पहली बैठक हुई जिसमें पाकिस्तानी गृहमंत्रालय को निर्देश दिए गए थे कि ओसामा बिन लादेन के परिवार को पाकिस्तान से बाहर न जाने दिया जाए.

जाँच आयोग ने उन लोगों को भी निर्देश दिए थे कि उनके पास ऐबटाबाद घटना को लेकर कोई भी जानकारी है तो वह प्रदान करें ताकि जाँच में कुछ मदद मिल सके.

संबंधित समाचार