संकल्प औऱ मज़बूत हुआ: गिलानी

गिलानी इमेज कॉपीरइट AFP
Image caption प्रधानमंत्री नेशनल कमांड अथॉरिटी की बैठक को संबोधित कर रहे थे.

पाकिस्तान के प्रधानमंत्री यूसुफ़ रज़ा गिलानी ने मुंबई धमाकों की कड़े शब्दों में निंदा करते हुए कहा कि ऐसी घटनाओं से क्षेत्र में आतंकवाद के नासूर को ख़त्म करने के लिए मिलकर काम करने का संकल्प और मज़बूत होता है.

उन्होंने यह बात गुरुवार को परमाणु हथियारों की निगरानी करने वाली मुख्य संस्था नेशनल कमांड अथॉरिटी की बैठक को संबोधित करते हुए कही. उस बैठक में सेनाध्यक्ष जनरल अशफ़ाक़ परवेज़ कियानी, वरिष्ठ सैन्य अधिकारी और मंत्री शामिल थे.

प्रधानमंत्री ने अपने भाषण की शुरुआत मुंबई धमाकों की निंदा से की और मृतकों के परिजनों से संवेदना प्रकट करके की.

उन्होंने कहा, “पाकिस्तान पहली ही दुखद धमाकों की निंदा कर चुका है. राष्ट्रपति और मैंने भारतीय नेतृत्व से गहरी संवेदना प्रकट की है.”

उन्होंने आगे कहा, “ऐसी घटनाओं से इस क्षेत्र में आतंकवाद के नासूर को ख़त्म करने के लिए मिलकर काम करने का हमारा संकल्प और मज़बूत होता है.”

'परमाणु हथियार सुरक्षित'

पाकिस्तान के परमाणु हथियारों पर बात करते हुए यूसुफ़ रज़ा गिलानी ने कहा कि ऐबटाबाद और मेहरान घटनाओं के बाद पाकिस्तान के सामरिक कार्यक्रम पर चिंता व्यक्त की जा रही है और यह पाकिस्तान के ख़िलाफ़ दुष्प्रचार है.

उन्होंने कहा कि पाकिस्तान के परमाणु हथियार सुरक्षित हाथों में है और किसी को इस संबंध में चिंता करने की कोई ज़रुरत नहीं है.

ग़ौरतलब है कि मुंबई में हुए धमाकों के तुरंत बाद राष्ट्रपति आसिफ़ अली ज़रदारी और प्रधानमंत्री यूसुफ़ रज़ा गिलानी की और से जारी बयान में कहा गया था कि 'पाकिस्तान की सरकार और उसके लोग मुंबई में हुए धमाकों की कड़ी निंदा करते हैं.'

बयान में मुंबई में हुए जान-माल के नुक़सान पर गहरा अफ़सोस व्यक्त किया गया था.

पाकिस्तान के राष्ट्रपति और प्रधानमंत्री ने भारतीय राजनीतिक नेतृत्व से सहानुभूति भी व्यक्त की थी.

मुंबई के दादर कबूतरख़ाना, झावेरी बाज़ार और ओपेरा हाउस इलाक़ों में बुधवार की शाम एक के बाद तीन हमले हुए थे.

संबंधित समाचार