'आठ लाख परिवार अब भी बेघर'

पाक बाढ़
Image caption पाकिस्तान में 2010 में भंयकर बाढ़ आई थी जिसे करोड़ो लोग प्रभावित हुए थे.

अंतरराष्ट्रीय सहायता एजेंसी ऑक्सफ़ैम ने कहा है कि पाकिस्तान ऐतिहासिक विनाशकारी बाढ़ के एक साल बाद भी बाढ़ और दूसरी प्राकृतिक आपदाओं से निपटने के लिए तैयार नहीं है.

पिछले साल जुलाई महीने के इन्हीं दिनों में पाकिस्तान में भयंकर बाढ़ आई थी जिससे दो करोड़ से ज़्यादा लोग प्रभावित हुए थे जबकि मरने वालों की संख्या एक हज़ार से ज़्यादा बताई जाती है.

ऑक्सफ़ैम ने अपनी एक रिपोर्ट में बाढ़ ग्रस्त इलाक़ों की बदहाली और पुनर्निर्माण के कामों पर चिंता व्यक्त की है.

रिपोर्ट में कहा गया है कि पाकिस्तान में मॉनसून शुरु हो चुका है जबकि पिछले साल बाढ़ से पीड़ित करीब आठ लाख परिवारों के पास अभी तक कोई स्थाई आसरा नहीं है.

सहायता एजेंसी के मुताबिक़ कई ऐसे बाढ़ पीड़ित हैं जो अपनी फ़सल नहीं बो सके थे वह अपना जीवन बिताने के लिए संघर्ष कर रहे हैं और खाद्य सामग्री की बढ़ती हुई क़ीमतों से वे काफ़ी दिक़्क़तों का सामना कर रहे हैं.

'ज़रुरत'

इससे पहले संयुक्त राष्ट्र ने अपनी एक रिपोर्ट में कहा था कि उसे पाकिस्तान के बाढ़ पीड़ितों की बहाली और पुनर्निर्माण के कामों के लिए साठ करोड़ डॉलर की ज़रूरत है.

पिछले साल आई भंयकर बाढ़ के बाद संयुक्त राष्ट्र ने अंतरराष्ट्रीय समुदाय से बाढ़ पीड़ितों की सहायता के लिए 1.9 अरब डॉलर की सहायता की गोहार लगाई थी.

यह सहायता राशि बाढ़ पीड़ितों की बहाली और पुनर्निर्माण पर ख़र्च की जानी थी.

संयुक्त राष्ट्र का कहना है कि बाढ़ के एक साल बाद उसे सहायता के लिए की गई अपील का 30 प्रतिशत भी नहीं मिल सका है.

संयुक्त राष्ट्र के मुताबिक़ बाढ़ पीड़ितों के लिए पुनर्निर्माण के लिए अब भी बहुत कुछ करना बाक़ी है और उसे साठ करोड़ डॉलर की ज़रुरत है.

संयुक्त राष्ट्र ने चिंता व्यक्त की है कि बाढ़ ग्रस्त इलाक़ों में पुनर्निर्माण का काम पूरा न होने की वजह से इस साल भी 20 लाख लोग बाढ़ से प्रभावित हो सकते हैं.

संबंधित समाचार