पेशावर में दो धमाके, सात मरे

पेशावर में धमाका इमेज कॉपीरइट Reuters
Image caption पेशावर में विस्फोट बुधवार को हक़्क़ानी नेटवर्क के 18 लड़ाकें के एक ड्रोन हमले में मारे जाने के बाद आया है.

पाकिस्तान के पेशावर शहर में हुए दो विस्फोटों में कम से कम सात लोगों के मारे जाने की ख़बर है. मरने वालों में एक 12 साल का बच्चा भी है.

पहले विस्फोट में कम से कम चार पुलिसकर्मियों और एक बच्चे की मौत हुई. दूसरे धमाके में दो महिलाएं मारी गई हैं. बताया जा रहा है कि मरने वाली महिलाओं में से एक आत्मघाती हमलावर थी.

पहला विस्फोट एक पुलिस वाहन के करीब हुआ है. शहर के लाहौरी गेट इलाक़े में हुए धमाके में कम से कम 14 लोगों के घायल होने की भी ख़बर है.

एक पुलिस अधिकारी ने कहा है कि वाहन पर सवार पुलिसकर्मी अपनी तैनाती के लिए निकल रहे थे.

एक स्थानीय पुलिस अधिकारी इजाज़ ख़ान ने पत्रकारों को बताया है कि विस्फोटक सड़क के किनारे खड़ी एक हाथगाड़ी में रखे गए थे और इन्हें एक रिमोट कंट्रोल से ट्रिगर किया गया है.

अधिकारी ने बताया कि पुलिस वाहन पर शहर के कोतवाली थाने के क़रीब 24 पुलिसकर्मी सवार थे और ये वाहन पुलिस लाइंस की ओर जा रहा था.

विस्फोट के समय वाहन के क़रीब कुछ स्कूल जा रहे लड़के भी थे. इन्हीं में से एक 12 साल का लड़का भी विस्फोट में मारा गया.

दूसरा हमला

पेशावर में दूसरा हमला पहले हमले के स्थान से क़रीब 400 मीटर की दूरी पर हुआ है. यहां एक महिला आत्मघाती हमलावर और अन्य महिला की मौत हुई है.

बताया जा रहा है कि ये महिला पुलिस चौकी पर हमला करने जा रही थी.

पाकिस्तानी टीवी चैनल 'एक्सप्रेस न्यूज़' के रिपोर्टर के अनुसार आत्मघाती हमलावर 16 से 17 वर्ष की होगी और उसके साथ मारी गई महिला क़रीब 50 साल की होगी. ये रिपोर्ट धमाके के वक़्त वहां मौजूद था.

बीबीसी के इस्लामाबाद स्थित संवाददाता मोहम्मद इलियास ख़ान के अनुसार पेशावर में ये हाल के हफ़्तों में पहला हमला है और ये बुधवार को उत्तरी वज़ीरिस्तान में हक़्क़ानी नेटवर्क के 18 लड़ाकों की ड्रोन हमले में मौत के बाद हुआ है.

मई में ऐबटाबाद में एक अमरीकी ऑपरेशन में ओसामा बिन लादेन के मारे जाने के बाद से पाकिस्तान में चरमपंथी हिंसा में बढ़ोतरी हुई है.

संबंधित समाचार