अमरीकी आरोपों पर पाकिस्तान में अहम बैठक

गिलानी इमेज कॉपीरइट Getty
Image caption अमरीकी आरोपों के बाद सर्वसम्मति केलिए प्रधानमंत्री बैठक बुलाई है.

चरमपंथी गुट हक़्क़ानी नेटवर्क को लेकर अमरीका की ओर लगाए गए आरोपों के बाद पाकिस्तान के प्रधानमंत्री यूसुफ़ रज़ा गिलानी ने एक उच्चस्तरीय बैठक बुलाई है.

इस बैठक में सेनाध्यक्ष जनरल अशफ़ाक़ परवेज़ कियानी, आईएसआई के प्रमुख लेफ़्टीनेंट जनरल अहमद शुजा पाशा, विदेश मंत्री और दूसरे वरिष्ठ मंत्रियों सहित सभी राजनीतिक और धार्मिक दलों के नेता भाग लेंगे.

यह बैठक इस्लामाबाद के ‘रेड ज़ोन’ में स्थित प्रधानमंत्री कार्यालय में होगी, जहाँ सुरक्षा व्यवस्था कड़ी कर दी गई है और सैंकड़ों अर्धसैनिक बलों और पुलिसकर्मियों को तैनात किया गया है.

इस बैठक में पत्रकारों को नहीं बुलाया गया है और अधिकारियों का कहना है कि बैठक के बाद एक संयुक्त घोषणा पत्र जारी कर दिया जाएगा.

प्रधानमंत्री की ओर से बलाई गई इस बैठक में 30 से ज़्यादा राजनीतिक और धार्मिक दलों के वरिष्ठ नेता भाग लेंगे, जिसमें पूर्व प्रधानमंत्री नवाज़ शरीफ़, मौलाना फ़ज़लुर्रहमान और इमरान ख़ान शामिल हैं.

बैठक के एजंडा को अंतिम रुप देने केलिए प्रधानमंत्री यूसुफ़ रज़ा गिलानी ने अपनी पार्टी पाकिस्तान पीपुल्स पार्टी के वरिष्ठ नेताओं से सलाह की.

'अमरीका को संदेश'

जानकारों का मानना है कि सरकार की यह कोशिश होगी कि बैठक के बाद एक संयुक्त घोषणा पत्र जारी कर अमरीका को संदेश दिया जाए कि पाकिस्तान में घुस कर किसी भी कार्रवाई करने का न सोचे.

इस बैठक से पहले गुरुवार देर रात को राष्ट्रपति आसिफ़ अली ज़रदारी ने सेनाध्यक्ष जनरल अशफ़ाक़ परवेज़ कियानी से मुलाक़ात की, जिसमें प्रधानमंत्री यूसुफ़ रज़ा गिलानी भी शामिल थे.

ग़ौरतलब है कि अमरीका के शीर्ष सैन्य अधिकारी एडमिरल माइक मलेन ने कुछ दिन पहले कहा था कि पाकिस्तान की ख़ुफ़िया एजेंसी आईएसआई हक़्क़ानी गुट को इस्तेमाल कर छद्म युद्ध लड़ रही है और उसने काबुल हमले में भी हक़्क़ानी नेटवर्क का समर्थन किया था.

पाकिस्तानी सरकार ने अमरीकी अधिकारियों की ओर से लगाए गए आरोपों का खंडन किया है और विदेश मंत्री हिना रब्बानी खर यह चेतावनी दे चुकी हैं कि अगर आरोपों का सिलसिला नहीं रुका तो अमरीका आतंकवाद के ख़िलाफ़ चल रहे युद्ध में एक साथी खो सकता है.

अमरीका और पाकिस्तान के बीच में संबंध पिछले कई महीनों से तनावपूर्ण बने हुए हैं.

संबंधित समाचार