पाकिस्तान में 34 मज़दूरों का अपहरण

पाक सेना इमेज कॉपीरइट AFP
Image caption पाकिस्तानी सेना ने इसी इलाक़े में चरमपंथियों के ख़िलाफ़ कई बार कार्रवाई की है

पाकिस्तान के क़बायली इलाक़े ख़ैबर एजेंसी में सशस्त्र चरमपंथियों ने कोयले की खदानों में काम करने वाले 34 मज़दूरों का अपहरण कर लिया है.

स्थानीय प्रशासन के एक वरिष्ठ अधिकारी ने टलीफ़ोन पर बीबीसी को बताया कि यह घटना बुधवार देर रात ख़ैबर एजेंसी के इलाक़े कालाख़ेल में घटी है.

उन्होंने कहा कि बाड़ा बाज़ार से करीब चार किलोमीटर दूर कालाख़ेल इलाक़े में चरमपंथियों के दो गुटों ने कोयले की खदानों और सड़क पर काम करने वाले 34 मज़दूरों को अग़वा करके किसी अज्ञात स्थान पर ले गए.

अधिकारी के मुताबिक़ अपहृत मज़दूरों का संबंध ख़ैबर पख़्तूनख़्वाह प्रांत के ज़िलों स्वात और शांगला से बताया जा रहा है.

अभी तक इस घटना के कारणों का पता नहीं चल सका है और न ही किसी गुट से इसकी ज़िम्मेदारी ली है.

'तालिबान पर शक़'

लेकिन अधिकारी यह संदेह व्यक्त कर रहे हैं कि अपहरण की इस घटना में चरमपंथी गुट तहरीक-ए-तालिबान पाकिस्तान का हाथ हो सकता है.

स्थानीय लोगों का कहना है कि जिस इलाक़े में यह घटना घटी है वहाँ हाल ही में स्थानीय लोगों ने तालिबान विरोधी दल गठित किया है.

उन्होंने बताया कि इस इलाक़े में सुरक्षाबलों की ओर से कई बार कार्रवाई भी की गई है जिसमें चरमपंथियों के ठिकानों और घरों को नष्ट किया गया है.

ग़ौरतलब है कि कालाख़ेल इलाक़े में कोयले की कई खदानें हैं जहाँ सैंकड़ों मज़दूर काम करते हैं.

ख़ैबर एजेंसी अफ़ग़ानिस्तान की सीमा से सटा हुआ पाकिस्तान का क़बायली इलाक़ा है जो चरमपंथियों का गढ़ माना जाता है और पिछले कई सालों से इसी इलाक़े में सेना और चरमपंथियों के संघर्ष हो रहा है.

संबंधित समाचार