अमरीका को पाकिस्तान से नतीजों की उम्मीद

हिना रब्बानी खार और हिलेरी क्लिंटन इमेज कॉपीरइट AFP Getty

पाकिस्तान ने माना है कि अफ़गान सीमा स्थित चरमपंथियों के ठिकानों पर कार्रवाई में बेहतर परिणाम लाने के लिए वो और सहयोग कर सकता है. लेकिन पाकिस्तानी विदेश मंत्री हिना रब्बानी खर ने स्पष्ट किया कि चरमपंथियों को उनके देश में कोई आधिकारिक समर्थक प्राप्त नहीं है.

उधर अमरीकी विदेश मंत्री हिलेरी क्लिंटन ने कहा है कि अमरीका पाकिस्तान की सहायता तो करता रहेगा लेकिन उसे नतीजों की भी उम्मीद है.

हिना रब्बानी खर और हिलेरी क्लिंटन इस्लामाबाद में एक बैठक के बाद पत्रकारों से बात कर रही थीं.

खर ने कहा, “क्या सीमा पर चरमपंथियों के ठिकाने हैं? हां, ये सीमा के दोनों ओर हैं. क्या हमें अधिक सहयोग करना चाहिए? हां. हम और सहयोग करके बेहतर नतीजे हासिल कर सकते हैं.”

‘नतीजों की उम्मीद’

हिलेरी क्लिंटन ने कहा है कि अमरीका पाकिस्तान की सहायता के लिए प्रतिबद्ध है लेकिन उसे पाकिस्तान से नतीजों की भी अपेक्षा है.

उन्होंने दोहराया कि अफ़ग़ानिस्तान के चरमपंथियों को सीमावर्ती क्षेत्रों में शरण नहीं मिलनी चाहिए.

दोनों देशों के बीच मतभेदों की बात को स्वीकार करते हुए हिलेरी क्लिंटन कहा, "हम समझते हैं और जानते हैं कि हिंसक कट्टरपंथ ने सैकड़ों पाकिस्तानियों, अमरीकियों और अफ़ग़ानों की जान ली है इसलिए इसे रोकना हम सबकी साझा नीति है."

अमरीकी विदेश मंत्री ने कहा कि जो भी मासूम लोगों को निशाना बनाता है उसे सहन नहीं किया जा सकता.

‘मिलजुल कर काम’

इमेज कॉपीरइट AFP Getty
Image caption गुरुवार को लाहौर में हिलेरी क्लिंटन के दौरे का विरोध हुआ.

हिलेरी क्लिंटन ने कहा, “हम पाकिस्तान की चुनौतियों का सम्मान करते हैं और हम मिलजुलकर जो क़दम अल-क़ायदा के ख़िलाफ़ उठा रहे हैं उनका भी सम्मान करते हैं. इसलिए आतंकवाद हमारी साझा चुनौती है. और हम तालिबान, अल-क़ायदा और हक़्क़ानी नेटवर्क जैसे गुटों को उखाड़ फेंकने के लिए मिलकर काम करेंगे. ”

उधर पाकिस्तान विदेश मंत्री हिना रब्बानी खर ने कहा कि उनका देश चरमपंथी ख़तरे को बहुत ही गंभीरता से लेता है. उन्होंने उन आरोपों का पुरज़ोर खंडन किया जिनमें पाकिस्तान के भीतर कुछ तत्वों का चरमपंथ को पोषित करने की बात कही जाती रही है.

खर ने कहा, “मैं ये बात बिल्कुल साफ़ कर देना चाहती हूं कि किसी भी पाकिस्तानी संस्थान द्वारा चरमपंथ को पनाह देने का प्रश्न ही नहीं उठता.”

पाकिस्तान के दौरे पर पहुंची हिलेरी क्लिंटन पाकिस्तान के राष्ट्रपति आसिफ़ अली ज़रदारी से भी मिलेंगी.

संबंधित समाचार