'पाकिस्तानी मछुआरे ईरान की हिरासत में'

  • 3 जनवरी 2012
ईरान नौसेना (फ़ाइल फ़ोटो) इमेज कॉपीरइट Isna
Image caption ईरान और पाकिस्तान की सीमा पर पहले भी इस तरह की घटनाएं हो चुकी हैं.

पाकिस्तान में अधिकारियों का कहना है कि ईरान के कोस्ट गार्ड्स ने बलूचिस्तान के तटवर्ती इलाक़े जीवनी से 16 पाकिस्तानी मछुआरों को हिरासत में ले लिया है.

बलूचिस्तान की प्रांतीय सरकार ने इस घटना की पुष्टि करते हुए कहा कि ईरान की जलसीमा से सटे पाकिस्तान के तटवर्ती इलाक़े जीवनी से ईरान के सुरक्षाबलों ने पाकिस्तानी मछुआरों को हिरासत में लेकर ईरान ले गए और उनके अनुसार तीन नौकाएँ भी ईरानी सुरक्षबलों के क़ब्ज़े में हैं.

प्रांतीय गृह सचिव नसीबुल्लाह बाज़ई ने बीबीसी को बताया कि मछुआरों की रिहाई के लिए ईरानी सरकार से फ़ौरन संपर्क किया जाएगा.

ग़ौरतलब है कि पाकिस्तान के सुरक्षा बलों ने रविवार को सीमा का उल्लंघन करने के आरोप में तीन ईरानी सुरक्षाकर्मियों को हिरासत में ले लिया था.

बलूचिस्तान पुलिस ने ईरानी सीमा सुरक्षाबलों के ख़िलाफ़ एक पाकिस्तानी की मौत का मुक़दमा भी दर्ज कर लिया है.

उससे पहले ईरानी सुरक्षाबलों की गोलीबारी में एक पाकिस्तानी नागरिक की मौत के ख़िलाफ़ सीमा से सटे इलाक़े माशकेल में लोगों ने विरोध प्रदर्शन भी किया था.

सीमा से सटे बलूचिस्तान प्रांत के इलाक़े माशकेल में ईरानी सीमा सुरक्षाबलों की एक गाड़ी अवैध रुप से क़रीब तीन किलोमीटर अंदर तक दाख़िल हो गई थी.

स्थानीय लोगों का कहना था कि ईरानी सीमा सुरक्षाबलों ने पाकिस्तानी सीमा में घुस कर भीषण गोलीबारी की थी, जिसकी वजह से पाकिस्तानी नागरिक सईद रेकी की मौत हो गई थी और उनका भाई घायल हो गया था.

उसके बाद पाकिस्तानी सुरक्षा बलों ने जवाबी कार्रवाई करते हुए ईरानी सीमा सुरक्षा बल के तीन सदस्यों को हिरासत में लिया था.

माशकेल के स्थानीय पत्रकार फ़ारुक़ कबदानी ने बीबीसी को बताया था कि ईरानी सीमा सुरक्षा बलों के हाथों पाकिस्तानी नागरिक की मौत के ख़िलाफ़ इलाक़े के लोगों ने विरोध प्रदर्शन किया और गोलीबारी में लिप्त ईरानी सुरक्षाकर्मियों को कड़ी सज़ा देने की माँग की.

उस घटना के बाद ईरान ने पाकिस्तान से सटी अपनी सीमा को आम यातायात के लिए बंद कर दिया था.

दूसरी ओर पाकिस्तान और ईरान की सीमा पर दोनों देशों के अधिकारियों की बैठक हुई जिसमें ईरानी सुरक्षाबलों की रिहाई की माँग की गई, लेकिन पाकिस्तानी अधिकारियों ने उस मांग को रद्द कर दी.

संबंधित समाचार