तालेबान से बातचीत के बारे में जानकारी दी

यूसुफ़ रज़ा गिलानी इमेज कॉपीरइट Reuters
Image caption गिलानी सोमवार को क़तर जाएंगे जहां अमरीका और तालेबान के बीच बातचीत होने वाली है.

पाकिस्तान ने पहली बार इस बात की पुष्टि की है कि अमरीका ने तालिबान के साथ हो रही प्रारंभिक बातचीत के बारे में उसे जानकारी दी है.

पाकिस्तानी विदेश मंत्रालय के प्रवक्तता अब्दुल बासित ने बीबीसी से बातचीत करते हुए कहा कि तालेबान के साथ हो रही शांति वार्ता में पाकिस्तान की भूमिका मध्यस्थ की है.

अमरीका और तालेबान के बीच हो रही बातचीत के बारे में उन्होंने कहा, “पाकिस्तान और अमरीका के बीच कूटनीतिक स्तर पर संपर्क मौजूद है और अमरीका ने हमें कूटनीतिक स्तर पर जानकारी दी है.”

उन्होंने आगे कहा कि पाकिस्तानी सरकार उम्मीद करती है कि जब अमरीका के साथ पाकिस्तान का संपर्क पूरी तरह से स्थापित हो जाएगा तो उसे विस्तार से सारी जानकारी दी जाएगी.

पिछले साल नवंबर में नेटो सेना के हेलिकॉप्टरों ने पाकिस्तानी सेना पर हमला किया था, जिसमें 24 सैनिक मारे गए थे और उसके बाद से दोनों देशों के संबंधों में काफ़ी तनाव है.

अब्दुल बासित ने बताया कि अमरीका और तालेबान के बीच हो रही बातचीत में पाकिस्तान की सीमित भूमिका है और पाकिस्तान ने फ़ैसला लिया है कि वह अफ़ग़ानिस्तान के आंतरिक मुद्दे में हस्तक्षेप नहीं करेगा.

ग़ौरतलब है कि सोमवार को प्रधानमंत्री यूसुफ़ रज़ा गिलानी क़तर की यात्रा पर जा रहे हैं जहाँ अमरीका और तालेबान के बीच शांति वार्ता हो रही है.

अब्दुल बासित के मुताबिक़ प्रधानमंत्री अपनी क़तर यात्रा के दौरान क़तर के नेताओं से इस शांति वार्ता पर बातचीत करेंगे.

उन्होंने कहा, “हमने हमेशा से ही यह कहा है कि बातचीत के माध्यम से ही अफ़ग़ानिस्तान की समस्या का समाधान मुमकिन है और हमें इस बात की ख़ुशी है कि दुनिया ने हमारे पक्ष को स्वीकार कर लिया है.”

उन्होंने बताया कि अफ़ग़ानिस्तान की समस्या के शांतिपूर्ण समाधान के लिए अपनी भूमिका अदा करता रहेगा.

संबंधित समाचार