पाकिस्तान करेगा परमाणु तकनीक की मांग

  • 24 मार्च 2012
गिलानी इमेज कॉपीरइट BBC World Service
Image caption अमरीका ने पाकिस्तान के साथ परमाणु समझौते की संभावना को नकार दिया है.

प्रधानमंत्री यूसुफ रजा गिलानी अगले हफ्ते सिओल में होने वाले परमाणु सुरक्षा बैठक में पाकिस्तान को शांतिपूर्वक उपयोगों के लिए 'बिन भेदभाव' परमाणु तकनीक उपलब्ध कराए जाने की मांग करेंगे.

पाकिस्तान के विदेश मंत्रालय की ओर से जारी किए गए एक बयान में कहा गया, ''प्रधानमंत्री यूसुफ रजा गिलानी शांतिपूर्वक प्रयोगों के लिए पाकिस्तान को बिन भेदभाव के परमाणु तकनीक दिए जाने की मांग करेंगे, ताकि बढ़ती ऊर्जा जरूरतों को पूरा किया जा सके.''

बयान में कहा गया, ''गिलानी बाकि देशों को बताएंगे कि पाकिस्तान ने अपने परमाणु ठिकानों की सुरक्षा के लिए क्या-क्या महत्वपूर्ण कदम उठाए है.''

विदेश मंत्रालय की ओर से जारी किए गए इस बयान में इस बात का भी उल्लेख किया गया कि पाकिस्तान के पास परमाणु संयंत्रों की सुरक्षा का चार दशकों का अनुभव है और प्रशिक्षित कार्यबल है.

समझौते

बयान में इस बात का दावा पेश किया गया कि पाकिस्तान परमाणु आपूर्तिकर्ता समूह का हिस्सा बनने के लिए पूरी तरह सक्षम है.

पाकिस्तान पिछले कई सालों से कोशिश कर रहा है कि अमरीका या कोई और पश्चिमी देश उसकी परमाणु नागरिक जरूरतों को पूरा करने के लिए उससे भारत-अमरीका की तर्ज पर अनुबंध कर ले.

हालांकि अमरीका और दूसरे कई देशों ने पाकिस्तान के साथ ऐसे किसी समझौते की संभावना को नकार दिया है.

सिओल में होने वाले इस बैठक में प्रधानमंत्री गिलानी के साथ पाकिस्तान की विदेश मंत्री हिना रब्बानी खर भी शामिल होंगी.

दक्षिणी कोरिया के राष्ट्रपति की तरफ से आयोजित कराए जा रहे उद्घाटन समारोह में गिलानी प्रमुख वक्ताओं में से एक होंगे.

संबंधित समाचार