पाकिस्तानी संसद पर हमले की योजना नाकाम

रहमान मलिक
Image caption पाकिस्तान के गृह मंत्री रहमान मलिक ने बताया कि राष्ट्रपति की अध्यक्षता वाली बैठक के दौरान संसद पर हमले की योजना थी.

पाकिस्तान के गृह मंत्री रहमान मलिक ने कहा है कि सुरक्षाबलों ने पाकिस्तान की संसद पर हमले की योजना को नाकाम किया है. इस संबंध में दो लोगो को गिरफ्तार किया गया है, जिसमें एक सरकारी कर्मचारी भी शामिल है.

मलिक का कहना है कि चरमपंथियों की योजना दो हफ्ते पहले पाकिस्तान की संसद पर हमला करने की थी जब वहां संसद के दोनों सदनों की संयुक्त बैठक हो रही थी. इस बैठक की अध्यक्षता राष्ट्रपति आसिफ अली जरदारी कर रहे थे.

गृह मंत्री ने शनिवार को इस बात का खुलासा किया कि इस मामले में गिरफ्तार किए गए दो लोगों में से एक व्यक्ति वाणिज्य मंत्रालय का कर्मचारी है.

उन्होंने पत्रकारों से कहा, “मै इस्लामाबाद पुलिस की सराहना करता हूं कि उन्होंने राष्ट्रपति के भाषण के दौरान संसद पर हमले की योजना को नाकाम किया.”

चरमपंथ

राष्ट्रपति आसिफ अली जरदारी ने कड़ी सुरक्षा के बीच 17 मार्च को संसद के दोनों सदनों की बैठक की अध्यक्षता की.

इस्लामाबाद के सरकारी ज़िले में कई पश्चिमी देशों के दूतावास, देश का संसद, राष्ट्रपति निवास और आईएसआई का मुख्यालय स्थित है. महत्वपूर्ण इलाका होने के चलते यहा पहले कई आत्मघाती हमले हो चुके है.

पिछले साल अक्तूबर में पुलिस ने एक बड़ी उप्लब्धि के तौर पर राजधानी इस्लामाबाद के आस-पास के इलाके से काफी अधिक मात्रा में हथियार और गोला बारूद बरामद किया था.

साल 2007 में इस्लामाबाद के एक मस्जिद पर सरकारी सुरक्षाबलों के छापे के बाद पाकिस्तान में चरमपंथियों ने 4900 से ज्यादा लोगों की हत्या की है.

संबंधित समाचार