हाफिज पर कार्रवाई आंतरिक मामला: गिलानी

यूसुफ रजा गिलानी इमेज कॉपीरइट BBC World Service
Image caption यूसुफ रजा गिलानी ने कहा है कि किसी के सबूत है, तो दिए जाएँ

पाकिस्तान के प्रधानमंत्री यूसुफ रजा गिलानी ने कहा है कि किसी के पास अगर हाफिज सईद के खिलाफ सबूत हैं, तो दिए जाएँ और उसके बाद ही मामले पर विचार किया जाएगा.

उन्होंने संसद के संयुक्त सत्र को संबोधित करते हुए कहा कि हाफिज सईद पर रखे गए इनाम के मामले पर उन्होंने अमरीका से बात की है और कहा है कि ऐसा कदम न उठाया जाए, जिससे दोनों देशों के बीच माहौल खराब हो.

प्रधानमंत्री ने बताया कि पाकिस्तानी की न्यायपालिका स्वतंत्र है और अगर किसी के पास हाफिज सईद के खिलाफ कोई सबूत हैं तो पेश किए जाए और फिर उस मामले पर विचार किया जाएगा.

उन्होंने कहा कि हाफिज सईद के खिलाफ कार्रवाई पाकिस्तान का आंतरिक मामला है और विदेश मंत्रालय पहले ही इस पर अपनी टिप्पणी दे चुका है.

इनाम

Image caption हाफिज सईद पर अमरीका ने एक करोड़ डॉलर का इनाम रखा है

गौरतलब है कि अमरीका ने प्रतिबंधित चरमपंथी संगठन जमात उद दावा के प्रमुख हाफिज सईद पर करीब 50 करोड़ रुपए (एक करोड़ डॉलर) का इनाम रखा है.

अमरीका ने यह इनाम हाफिज सईद को पकड़ने या पकड़ने में मदद करने वाली जानकारी देने के लिए रखा है.

भारत हाफिज सईद को 26/11 को मुंबई पर हुए हमले का 'मास्टर माइंड' मानता है. इस हमले में 160 लोग मारे गए थे.

जमाता उद दावा ने अमरीका के इस फैसले का कड़ा विरोध किया है और उसे इस्लाम पर एक ओर हमला करार दिया है.

हाफिज सईद ने बुधवार को पत्रकारों से बातचीत करते हुए कहा था कि अमरीका ने किस कानून के तहत उनकी गिरफ्तारी पर इनाम घोषित किया है क्योंकि न तो अमरीका की कोई अदालत में उनके खिलाफ आदेश दिया है और न ही वहाँ उनके खिलाफ कोई मुकदमा दर्ज है.

संबंधित समाचार