कराची में लड़ाई जारी, सैकड़ों लोग घरों से भागे

  • 30 अप्रैल 2012
इमेज कॉपीरइट BBC World Service
Image caption कराची में ल्यारी का इलाका हिंसा को लेकर अकसर सुर्खियों में रहता है

पाकिस्तान के सबसे बड़े शहर कराची के ल्यारी इलाके में पुलिस और बंदूकधारियों के बीच चार दिन से लड़ाई जारी है जिसके चलते सैंकड़ों परिवारों ने वहां से भगना शुरू कर दिया है.

बेहद सघन आबादी वाले ल्यारी और उसके आसपास रहने वाले लोग भयभीत हैं और वे खाने, पानी और बिजली की भारी किल्लत झेल रहे हैं.

अधिकारियों का कहना है कि उनका मकसद इलाके से नशीले पदार्थों का कारोबार करने वालों और आपराधिक गुटों से सफाया करना है.

पिछले चार दिनों से अकेले ल्यारी में 22 लोग मारे गए हैं. सोमवार को भी इस इलाके में तीन लोग मारे गए.

सरकार पर दबाव

संवाददाताओं का कहना है कि मारे गए लोगों में या तो आम लोग हैं या फिर पुलिसकर्मी. कई लोग पुलिस और बंदूकधारियों के बीच गोलीबारी में मारे गए.

पाकिस्तानी मीडिया में इस इलाके को “वार जोन” कहा जा रहा है.

कराची लंबे समय से हिंसा का शिकार रहा है. इसमें चरमपंथी हिंसा के अलावा विभिन्न आपराधिक गुटों के बीच होने वाले गैंग वार भी शामिल है.

पिछले साल कराची में राजनीतिक गुटों के बीच हिंसा में कम से कम 800 लोग मारे गए. इस साल ये हिंसा अब तक 300 लोगों की जान ले चुकी है.

पुलिस का कहना है कि ताजा झड़पों में तालिबान के शामिल होने की संभावना नहीं दिखती, लेकिन ऐसी खबरें हैं कि ल्यारी में मौजूद बंदूकधारियों में बलोच अलगाववादी भी हो सकते हैं.

झड़पों में न तो अब तक किसी संदिग्ध अपराधी को गिरफ्तारी किया गया है और न ही कोई मारा गया है. ऐसे में सिंध प्रांत की सरकार पर सेना को बुला कर इस अभियान को पूरा कराने का दवाब है.

संबंधित समाचार