नेटो रूट पर दूतावासों को धमकी की चिट्ठी

पाकिस्तान नेशनल असेंबली इमेज कॉपीरइट Reuters
Image caption पाकिस्तानी मंत्रीमंडल ने सप्लाई रूट खोलने की योजना तैयार करने के हुक्म दे दिए हैं.

पाकिस्तान के इस्लामाबाद स्थित तीन विदेशी दूतावासों को विस्फोटक सामग्री में लिपटी चिट्ठियां भेजकर धमकी दी गई है कि अगर पाकिस्तान के रास्ते अफगानिस्तान जानेवाली नेटो सप्लाई रूट खोली जाती है तो उन्हें निशाना बनाया जाएगा.

ऐसे खत ब्रितानी हाई कमीशन के अलावा फ्रांस और ऑस्ट्रेलिया के दूतावासों को प्राप्त हुए हैं.

इन तीनों देशों की सेनाएं अफगानिस्तान में मौजूद विदेशी फौज का हिस्सा हैं जो चरमपंथियों के खिलाफ लड़ाईयों में शामिल रही हैं.

नगर पुलिस अधीक्षक कैप्टन (रिटायर्ड) मोहम्मद इलियास ने बीबीसी को बताया कि दूतावास के अधिकारियों ने इसकी इत्तला पुलिस को दी जिसने वहां पहुंचकर संदिग्ध खतों को अपने कब्जे में ले लिया है.

पुलिस का कहना था कि खतों को जांच के लिए लैबोरेटरी भेज दिया गया है ताकि विस्फोटक पदार्थों की तीव्रता का अंदाजा लगाया जा सके.

पुलिस का कहना था कि खत में मौजूद पाउडर जैसा पदार्थ सुरमई रंग का दिख रहा था.

इस मामले में नामालुम लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया गया है.

हुकुमत ने इस बात की जांच के आदेश भी जारी किए हैं कि हाई सिक्यूरिटी जोन में मौजूद दूतावासों में विस्फोटक सामग्री में लिपटे खत एक साथ किस तरह भेजे जा सके?

खत एक प्राईवेट कूरियर कंपनी के जरिए भिजवाया गया था. पुलिस ने कंपनी में पहुंचकर पूछताछ शुरू कर दी है.

संबंधित समाचार