ऑपरेशन ओसामा: सीआईए के सहयोगी डॉक्टर को 30 साल की जेल

डॉक्टर शकील अफरीदी को खैबर एजेंसी के न्यायालय ने दोषी पाया

इमेज स्रोत, AP

इमेज कैप्शन,

डॉक्टर शकील अफरीदी को खैबर एजेंसी के न्यायालय ने दोषी पाया

ओसामा बिन लादेन को पकड़वाने में अमरीका की मदद करने वाले डॉक्टर को पाकिस्तान की एक अदालत ने 30 साल की जेल की सजा सुनाई है. उन पर 3500 डॉलर का जुर्माना भी लगाया गया है.

शकील अफरीदी नाम के इस डॉक्टर पर राजद्रोह का आरोप था. सरकारी पक्ष का कहना था कि डॉक्टर शकील अफरीदी ने वेक्सीनेशन लगाने का फर्जी कार्यक्रम चलाया.

ओसामा बिन लादेन 2011 के मई में एबटाबाद में अमरीकी हेलिकॉप्टरों द्वारा किए गए मरीन सील्स के हमले में मारे गए थे.

बिन लादेन के मारे जाने के बाद अमरीका और पाकिस्तान के बीच मतभेद खुलकर सामने आ गए थे.

ओसामा के पाकिस्तान में छिपे होने से पाकिस्तान को काफी शर्मिंदगी का सामना करना पड़ा था. पाकिस्तान का मानना है कि अमरीकी हमला पाकिस्तान की संप्रभुता पर हमला था.

बीबीसी के अलीम मकबूल का कहना है, "पाकिस्तान के बाहर स्थित पर्यवेक्षकों को चिंता है कि बिन लादेन के मारे जाने के बाद जिन लोगों को हिरासत में लिया गया है उनमें से अधिकतर वो हैं जो ओसामा को पकड़वाने में मदद कर रहे थे. निशाना उन पर नहीं है जिन पर उन्हें बचाने का शक है."

डॉक्टर के पक्ष में अमरीका

अमरीकी विदेश मंत्री हिलेरी क्लिंटन ने डॉक्टर अफरीदी की रिहाई की गुहार लगाई थी और कहा था कि वे पाकिस्तान और अमरीका के हितों के लिए काम कर रहे थे.

अमरीका के रक्षा मंत्री लिओन पैनेटा ने इस साल जनवरी में बताया था कि डॉक्टर शकील डीएनए के नमूने इकठ्ठा कर रहे थे और लक्ष्य था कि संदिग्ध परिसर से किसी बच्चे का डीएनए मिल जाए तो उन्हें कोई सुराग मिले. लेकिन ये स्पष्ट नहीं है कि उन्हें इस बारे में जानकारी थी या नहीं कि इस पूरी प्रक्रिया का मकसद ओसामा को पकड़ना था.

पैनेटा ने सीबीएस टेलीवीजन के कार्यक्रम ‘सिक्सटी मिनट्स’ में इस मामले के बारे में बातचीत की थी.

लिओने पैनेटा ने कहा था, “डॉक्टर शकील किसी भी तरह पाकिस्तान को नुकसान नहीं पहुंचा रहे थे...पाकिस्तान सरकार द्वारा उनके खिलाफ इस तरह की कार्रवाई करना मेरे हिसाब से सरकार की बहुत बड़ी गलती है क्योंकि वे तो आतंकवाद के खिलाफ हमारी मदद कर रहे थे.”

एबटाबाद में लादेने के मारे जाने के बाद ही डॉक्टर शकील को पाकिस्तानी सरकार के खिलाफ षडयंत्र करने के आरोप में गिरफ्तार कर लिया गया था.

डॉक्टर शकील अफरीदी को खैबर एजेंसी के न्यायालय ने दोषी पाया है.