पाकिस्तान में ड्रोन हमले में 15 लोगों की मौत

  • 4 जून 2012
Image caption पाकिस्तान में सोमवार को तड़के हुए ड्रोन हमले में 15 लोग मारे गए हैं

सोमवार तड़के पाकिस्तान में एक अमरीकी मानव रहित विमान के हमले में अफगान सीमा के निकट 15 संदिग्ध चरमपंथी मारे गए हैं.

समाचार एजेंसी रॉयटर्स के अनुसार मिसाइल वजीरिस्तान प्रांत के मीरान शाह कस्बे में स्थित एक अहाते में गिराई गई है. खुफिया एजेंसी के अधिकारियों के अनुसार मिसाइल से ये हमले पाकिस्तान के सरहदी कबायली इलाकों के हेसोखेल गांव में किए गए.

अमरीका ने मानव रहित विमान से ये हमला रविवार के तड़के किया. तीन दिनों में अमरीका का ये तीसरा ड्रोन हमला है. कुल मिलाकर तीन दिनों के इन हमले में कुल 27 लोग मारे गए हैं.

अफगानिस्तान में मौजूद नेटो के सैनिकों को पाकिस्तान द्वारा सड़क मार्ग से रास्ता दिए जाने को लेकर अमरीका और पाकिस्तान के बीच गतिरोध बना हुआ है.

नवबंर 2011 में नेटो के सैनिकों द्वारा ‘क्रॉस बॉर्डर’ के ‘फ्रेंडली फाइट’ में 24 पाकिस्तानी सैन्यकर्मियों के मारे जाने के बाद पाकिस्तान ने सड़क मार्ग से नेटो के लिए सामान आपूर्ति को रोक दिया था.

अमरीकी कार्रवाई

अफगानिस्तान में मौजूद नेटो की 2014 से पहले वापसी के लिए पाकिस्तान से सड़क मार्ग का होना बहुत ही अहम है.

पाकिस्तान सरकार का कहना है कि सीआईए के ड्रोन हमले से देश में अमरीका विरोधी भावना को काफी प्रबल कर दिया है. साथ ही, पाकिस्तान का यह भी कहना है कि ड्रोन हमले में जिस रुप में पाकिस्तान का नुकसान हुआ है, उससे भी पाकिस्तान के लोगों में काफी गुस्सा है.

हालांकि अमरीकी अधिकारियों का कहना है कि चरमपंथियों के उपर मानव रहित विमान से किए जाने वाले हमले काफी प्रभावी हैं. अमरीकी अधिकारियों का ये भी कहना है कि ये हमले चरमपंथियों पर काबू पाने के लिए भी काफी महत्वपूर्ण है.

यहां अमरीकी अल-कायदा और तालिबान को निशाना बना रहे हैं. पाकिस्तान में मानव रहित विमानों से हमले काफ़ी विवादास्पद रहे हैं.

संबंधित समाचार