जरदारी मामले पर अशरफ दें जवाब: सुप्रीम कोर्ट

  • 27 जून 2012
प्रधानमंत्री अशरफ
Image caption पाकिस्तान के नए प्रधानमंत्री अशरफ के खिलाफ भी कथित भ्रष्टाचार के कई आरोप हैं.

पाकिस्तान के राष्ट्रपति आसिफ अली जरदारी के खिलाफ भ्रष्टाचार के मामले में देश की सुप्रीम कोर्ट ने नए प्रधानमंत्री राजा परवेज अशरफ से पूछा है कि वो इस मामले में जानकारी मांगने के लिए स्विस अधिकारियों को पत्र लिखेंगे या नहीं. प्रधानमंत्री परवेज अशरफ को जवाब देने के लिए दो हफ्तों का समय दिया गया है.

स्विस अधिकारियों को पत्र लिखने के मामले में ही पूर्व प्रधानमंत्री यूसुफ रजा गिलानी को अदालत की अवमानना का दोषी ठहराया गया था. इसके बाद उन्हें अयोग्य करार दिया गया था और उन्हें पद छोड़ना पड़ा.

सुप्रीम कोर्ट के इस कदम के बाद पाकिस्तान की सरकार और न्यायपालिका के बीच का गतिरोध जल्दी खत्म होते नहीं दिख रहा.

सुप्रीम कोर्ट ने अदालत की अवमानना के मामले में 19 जून को प्रधानमंत्री रहे यूसुफ रजा गिलानी को उनके पद के लिए अयोग्य ठहरा दिया था.

गिलानी का उत्तराधिकारी ढूंढने के लिए अदालत की ओर से जारी किए गए नोटिस के बाद पाकिस्तान पीपल्स पार्टी की गठबंधन सरकार ने राजा परवेज अशरफ को प्रधानमंत्री चुना.

इसी के पांच दिन बाद बुधवार को जस्टिस नासिर-उल-मुल्क ने पाकिस्तान के अटोर्नी जनरल से कहा है कि वो 12 जुलाई तक पता करके बताए कि सरकार जरदारी के खिलाफ भ्रष्टाचार के मामले पर क्या कार्रवाई कर रहीं है.

'नए पीएम पर भरोसा'

समाचार एजेंसी एएफपी के अनुसार मुल्क ने कहा, “पिछले हफ्ते ही देश के नए प्रधानमंत्री का चयन किया गया है और हमें विश्वास है कि वो अदालत के आदेश का पालन करेंगे.”

एएफपी के अनुसार उन्होंने कहा, “हम अटोर्नी जनरल को आदेश देते हैं कि वो प्रधानमंत्री से जवाब तलब करें और इससे अदालत को अवगत कराए. सुनवाई की अखिरी तारीख 12 जुलाई होगी.”

जरदारी पर आरोप है कि उन्होंने करोड़ों डॉलर की रिश्वत स्विस बैंक में छुपाने की कोशिश की.

साल 2008 में जरदारी के राष्ट्रपति बनने के बाद स्विस बैंकों ने उनके खिलाफ मामलों को खत्म कर दिया. सरकार ने भी दावा किया कि ऐसे मामलों में राष्ट्रपति के खिलाफ कार्रवाई नहीं की जा सकती है.

लेकिन साल 2009 में सुप्रीम कोर्ट ने ये साफ किया कि उन्होंने राष्ट्रपति और बड़े नेताओं के खिलाफ कार्रवाई पर पाबंदी को खत्म कर दिया है और अब उनके खिलाफ जांच की जा सकती है.

पाकिस्तान के नए प्रधानमंत्री अशरफ के खिलाफ भी कथित भ्रष्टाचार के कई आरोप हैं. कई लोगों का मानना है कि उन्हें जल्दी ही सत्ता से बेदखल किया जा सकता है.